शरीर में बेहतर रक्त संचार के लिए अपनाएं ये 5 प्राकृतिक उपाय
January 4, 2019 • Editor Awazehindtimes

आवाज़ ऐ हिन्द टाइम्स, बीमारियां रहेंगी दूर - 5 प्राकृतिक आजकल लोगों में लाइफस्टाइल से जुड़ी बीमारियां तेजी से बढ़ रही हैं। इन रोगों में डायबिटीज, मोटापा, हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट अटैक प्रमुख हैं। ये सभी बीमारियां कहीं न कहीं रक्त संचार की गड़बड़ी और कमजोर इम्यूनिटी के कारण होती हैं। अगर आपके शरीर का ब्लड सर्कुलेशन यानी रक्त संचार बेहतर है, तो पूरा शरीर स्वस्थ रहता है। आइए आपको बताते हैं। कुछ ऐसे उपाय, जिनसे आपके शरीर के सभी अंगों तक रक्त संचार बेहतर होता है और बीमारियां दूर रहती हैं।

खाना खाने के तुरंत बाद टहले -

अक्सर लोग खाना खाने के बाद थोड़ी देर लेट जाते हैं या सो जाते हैं। इससे शरीर का मैटाबॉलिज्म धीरे होता है और खाना पचाने में परेशानी होती हैं। अगर शरीर का ब्लड सर्कुलेशन सही रखना है, तो दोपहर और रात के खाने के बाद थोड़ी देर टहलें। टहलने से शरीर का मेटाबॉलिज्म तेज होता है और शरीर का ब्लड सर्कलशन बेहतर होता है।

सुबह साइकिल चलाएं:

साइकिल चलाना अपने आप में संपूर्ण व्यायाम है। साइकिलिंग के द्वारा पूरे शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता है। अगर आप एक्सरसाइज नहीं करते हैं, तो रोजाना 30-45 मिनट साइकिल जरुर चलाएं। इससे आपका पूरा शरीर स्वस्थ रहेगा और शरीर की एक्सट्टा कैलोरी भी बर्न होगी।

पर्याप्त पानी पिएं:

हमारे शरीर का 70 प्रतिशत हिस्सा पानी है। पानी हमारे रक्त का भी मुख्य घटक है। शरीर में पानी की कमी से रक्त संचार प्रभावित होता है। इसलिए दिनभर में शरीर की जरूरत के अनुसार पर्याप्त पानी पिएं। पानी शरीर के ट्रिॉक्सिफिकेशन के लिए जरूरी है। अगर आप पर्याप्त मात्रा में पानी पीते हैं, तो इससे आपके शरीर में मौजूद सभी विषेले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता बेहतर होती है। बेहतर स्वास्थ्य के लिए रोज सुबह एक ग्लास गुनगुने पानी से दिन की शुरुआत करें। जितना हो सके, फ़िज़ का पानी पीने से बचें।

सिर को उल्टा लटकाकर लेटे:

गुरुत्वाकर्षण के नियम के अनुसार शरीर के निचले हिस्से में ब्लड फ्लो ज्यादा होता है, जबकि सिर के हिस्से में अपेक्षाकृत कम होता है। सिर के हिस्से में रक्त संचार बढ़ाने के लिए बेड पर लेटकर सिर को उल्टा लटका लें। लगभग 1520 मिनट तक सिर को इसी तरह लटकाकर रखने से सिर के हिस्से में ब्लड फ्लो बढ़ जाता है। सिर के हिस्से में ब्लड फ्लो बढ़ने से तनाव कम होता हैं और बाल स्वस्थ रहते हैं।

खुलकर हंसे :

हंसने से रक्त संचार सुचारु होता है व हमारा शरीर अधिक मात्रा में ऑक्सीजन ग्रहण करता है। तनावमुक्त होकर हँसने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ने में मदद मिलती हैं। दुनिया के तमाम हिस्सों में लॉफिंग थैरेपी के द्वारा कई रोगों और विकारों का इलाज किया जा रहा है। हंसने से चूंकि शरीर में ऑक्सीजन का फ्लो बढ़ता है इसलिए तनाव कम होता है और शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है।