Thursday, August 11, 2022
spot_img
HomeNewsWorld Hepatitis Day, इस बीमारी की वजह से बिगड़ रही है बच्‍चे...

World Hepatitis Day, इस बीमारी की वजह से बिगड़ रही है बच्‍चे की सेहत, आज नहीं हुए जागरूक तो जान पर बन आएगी – on world hepatitis day know the symptoms and treatment for this in kids


सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार हर साल कई बच्‍चे हेपेटाइटिस का शिकार होते हैं। भारत ही नहीं बल्कि अमेरिका जैसे इतने बड़े देश में भी बच्‍चों में हेपेटाइटिस एक बड़ी बीमारी है। बच्‍चों में हेपेटाइटिस कोई कॉमन बीमारी नहीं है और विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन के अनुसार 1 महीने से 16 साल के बच्‍चे इस बीमारी से प्रभावित होते हैं।

क्‍या है हेपेटाइटिस

लिवर में सूजन को हेपेटाइटिस कहते हैं। ज्‍यादा शराब पीने से, टॉक्सिंस, कुछ दवाओं और कुछ मेडिकल स्थितियों की वजह से हेपेटाइटिस हो सकता है। वायरस भी हेपेटाइटिस का सामान्‍य कारण है। आमतौर पर हेपेटाइटिस ए, हेपेटाइटिस बी और हेपेटाइटिस सी के बारे में लोगों को सबसे ज्‍यादा पता होता है। वायरल हेपेटाइटिस बीमार व्‍यक्‍ति के शारीरिक फ्लूइड या खून के जरिए फैलता है। हालांकि, बच्‍चों में हेपेटाइटिस का कोई स्‍पष्‍ट कारण नहीं मिल पाया है।

आज वर्ल्‍ड हेपेटाइटिस डे पर हम आपको बता रहे हैं कि बच्‍चों में यह बीमारी क्‍यों होती है, उनमें इसके क्‍या लक्षण दिखाई देते हैं और बच्‍चों में हेपेटाइटिस का इलाज किस तरह से किया जाता है। इसके साथ ही आप यहां जान सकते हैं कि बच्‍चों में हेपेटाइटिस से बचने के लिए क्‍या उपाय किए जा सकते हैं।

​बच्‍चों में हेपेटाइटिस के लक्षण

navbharat times

हेपेटाइटिस के प्रारंभिक लक्षण अस्पष्ट हैं। इसके लक्षणों में मतली, उल्‍टी, बुखार, भूख में कमी शामिल है। जैसे-जैसे हेपेटाइटिस बढ़ता है, इसके लक्षणों में पेशाब का रंग गहरा होना और हल्‍के रंग का मल आना शामिल हो जाता है। इसके सबसे गंभीर लक्षणों में पीलिया होता है जिसमें आंखों का रंग सफेद और स्किन का रंग पीला पड़ जाता है।

फोटो साभार : TOI

​बच्‍चों में क्‍यों होता है हेपेटाइटिस

navbharat times

बच्‍चों में हेपेटाइटिस के ज्‍यादातर मामले हेपेटाइटिस वायरस ए, बी और सी से होता है। इसके अन्‍य कारणों में साइटोमाइगैलोवायरस, एप्‍स्‍टीन बर्र वायरस, हर्पीस सिंप्‍लेक्‍स वायरस शामिल है। बैक्‍टीरियल इंफेक्‍शन, लीवर में चोट लगने या डैमेज, लीवर के आसपास एब्‍डोमिनल ट्रामा, इम्‍यून सिस्‍टम के लीवर पर अटैक करने पर भी हेपेटाइटिस हो सकता है। एक स्‍टडी के मुताबिक दुनिया भर में बच्चों में तीव्र हेपेटाइटिस के 300 से अधिक संभावित मामले मिले हैं। अधिकांश मामले यूके से रिपोर्ट किए गए हैं, लेकिन 20 देशों से कम संख्या में मामले सामने आए हैं।

फोटो साभार : TOI

​बच्‍चों में हेपेटाइटिस का इलाज

navbharat times

बच्‍चों के लक्षणों, उम्र और स्‍वास्‍थ्‍य स्थिति के आधार पर हेपेटाइटिस का इलाज निर्भर करता है। स्थिति कितनी गंभीर है और किस वजह से हेपेटाइटिस हुआ है, इसके हिसाब से भी इलाज होता है। इलाज में बच्‍चे के लीवर को डैमेज होने से रोकना और लक्षणों से आराम दिलाना शामिल होता है। इसके अलावा में खुजली को कंट्रोल करने के लिए वायरस का इलाज किया जाता है। पर्याप्‍त आराम और हेल्‍दी डाइट लेना भी फायदेमंद रहता है। ब्‍लड टेस्‍ट से पता चलता है कहीं बीमारी बढ़ तो नहीं रही है।

फोटो साभार : TOI

​बच्‍चे को हेपेटाइटिस से कैसे बचाएं

navbharat times

बच्‍चों को हेपेटाइटिस ए और बी का टीका लगवाने से उन्‍हें इस गंभीर बीमारी से बचाया जा सकता है। दवा के इस्‍तेमाल, किसी की इस्‍तेमाल की गई सुई लगाने से भी यह बीमारी हो सकती है।

फोटो साभार : Economic Times



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments