Thursday, June 30, 2022
HomeHealth Newsweight loss story this lucknow woman successfully lost 23 kilos weight by...

weight loss story this lucknow woman successfully lost 23 kilos weight by healthy diet – Weight loss success story: 93 Kg की इस महिला बैंकर ने किया गजब का ट्रांसफॉर्मेशन, पतली होने के लिए फॉलो की ये Diet


​टर्निंग पॉइंट कैसे आया

navbharat times

प्रेरणा बताती हैं कि मेरे पति ने विदेश में मास्टर्स पूरी करने का फैसला लिया। तब से हमेशा मैंने मेरे कंफर्ट के अनुसार बहुत कुछ गलत खाया। फिर मेरी 4 साल की बेटी को 2021 में ब्लड कैंसर होने का पता चला। उसे पीठ में दर्द रहता था, जिस कारण वह चल नहीं सकती थी। यहां तक की अस्पतमाल में वह मेरी गोद में बैठकर कीमोथैरपी लेती थी। जिस कारण मुझे एक ही स्थिति में लंबे वक्त तक बैठा रहना पड़ता था।

वह मुझे उठने तक जाने नहीं देती थी, इसलिए मैं पानी भी कम पी पाती थी। इन सबका असर मेरी सेहत पर पड़ने लगा और इसके इलाज के 4 महीने बाद मुझे अहसास हुआ कि इन सबका असर मेरे मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर पड़ रहा है। मेरा वजन बढ़कर 93 किलो हो गया था। तब से मैंने अपनी फिटनेस पर ध्यान देने का फैसला किया।

​फिटनेस रूटीन

navbharat times

प्रेरणा के अनुसार निरंतरता वजन कम करने की कुंजी है। वजन रातों-रात नहीं घटता, इसके लिए प्रयास करने होते हैं। फिटनेस 1 महीने या सालभर की बात नहीं है। फिटनेस से मतलब अच्छी आदतें और स्वस्थ जीवनशैली को हमेशा बनाए रखना होता है।

​वर्कआउट रिजाइम-

navbharat times

प्रेरणा कहती हैं कि मैंने फिट होने के लिए 6 दिन रेसिस्टेंस ट्रेनिंग और पुश पुल लेग किया। मैंने एक दिन में 15-20 स्टेप्स चलने का भी संकल्प पूरा किया।

​खुद को प्रेरित कैसे करती हैं-

navbharat times

प्रेरणा कहती हैं कि शुरुआत में मुझे वजन कम करने के लिए एक्सरसाइज करना काफी कठिन लगा, लेकिन मैं खुद से कहती रही , कि किसी दिन तो मेरे लिए चीजें आसान हो जाएंगी। निश्चित रूप से ऐसा हुआ भी।

​लाइफस्टाइल में क्या बदलाव किए-

navbharat times

प्रेरणा बताती हैं कि मैं हर दिन सुबह 4:30 बजे जागती थीवेटलॉस जर्नी के दौरान मैंने खूब पानी पीया। मैंने हर दिन 7 घंटे की नींद लेने और रात 9:30 बजे के बाद फोन नहीं देखने की आदत डाल ली थी। दिनभर एक्टिव रहती थी, फिर चाहे वह 2000 कदम चलने की बात हो या फिर 20 हजार कदम की। वह कहती हैं कि अनुशासन केवल बच्चों के लिए नहीं, बल्कि वयस्कों के रूप में भी हमें जीवन जीने के तरीके में अनुशासन को शामिल करना चाहिए।

​ओवरवेट होने के कारण किन समस्याओं का सामना किया

navbharat times

वजन बढ़ने के कारण सामान्य रूप से आपका जीवन कठिन हो जाता है। थकान और चिड़चिड़ापन भी महसूस होता है। प्रेरणा कहती हैं कि ओवरवेट होने के कारण मैं अपनी बेटी को संभालने में सक्षम नहीं थी। उसके इलाज के दौरान मुझे कई मुश्किलों का सामना करना पड़ा।

​खुद की वेटलॉस से क्या सीख मिली

navbharat times

प्रेरणा के मुताबिक वेटलॉस के लिए स्ट्रेंथ ट्रेनिंग बहुत जरूरी है। इसके कई गुना फायदे हैं। मैंने सीखा की जीवन में कुछ भी आसान नहीं होता। इसके लिए प्रयास और समय की जरूरत होती है। उनके अनुसार, दर्द को स्वीकार करना ही विकास की शुरूआत है। यह आपको मजबूत बनाता है।

अंग्रेजी में इस स्‍टोरी को पढ़ने के लिए यहां क्‍लिक करें

डिस्क्लेमर : लेखक के लिए जो चीजें काम आईं जरूरी नहीं है कि आपके लिए भी काम करें। तो इस लेख में बताई गई डाइट-वर्कआउट को आंख मूंदकर फॉलो करने से बचें और पता करें कि आपके शरीर के लिए सबसे अच्छा क्या काम करता है।

यदि आपके पास भी ऐसी ही वेट लॉस से जुड़ी अपनी कहानी है, तो हमें [email protected] पर भेजें।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments