Monday, June 27, 2022
HomeHealth Newsvitiligo awareness month: world vitiligo day 2022 4 popular myths about leucoderma...

vitiligo awareness month: world vitiligo day 2022 4 popular myths about leucoderma you should be aware about – ज्यादा साबुन लगाने से हो जाता है शरीर पर सफेद दाग? जाने Vitiligo से जुड़े 4 सबसे बड़े डर का सच


शरीर पर होने वाले सफेद दाग को विटिलिगो (Vitiligo) या ल्यूकोडर्मा भी कहते हैं। यह ऑटोइम्यून डिजीज है। यह एक स्किन रोग है। इस बीमारी से ग्रसित लोगों के चेहरे या हाथ-पैरों पर सफेद दाग बनने लगते हैं। इसे लेकर लोगों में जागरूकता लाने के लिए हर साल 25 जून को विश्व विटिलिगो दिवस (World Vitiligo Day) मनाया जाता है। इसका उद्देश्य विटिलिगों के बारे में लोगों में जागरूकता फैलाना है।

भारत में हर साल विटिलिगो के 1 लाख से ज्यादा मामले सामने आते हैं। विटिलिगो किसी भी उम्र में हो सकता है, लकिन आमतौर पर यह समस्या 30 से पहले ज्यादा देखने के लिए मिलती है। यह कई तरह के होते हैं। कुछ लोगों में यह सफेद दाग शरीर के किसी एक हिस्से में दिखते हैं। वहीं, कुछ मरीजों में ये सफेद दाग धीरे-धीरे पूरे शरीर में फैलने लगते हैं। इस बीमारी का इलाज मुमकिन है। इसे लेकर कई सारी धारणाएं बनी हुई है, जिस वजह से विटिलिगों के मरीजों को मानसिक तनाव का सामना भी करना पड़ता है। इसलिए आज हम इन्हीं धारणों का असली सच आपको बता रहे हैं।

​मछली और दूध साथ में खाने से होता है सफेद दाग

navbharat times

नहीं, यह बिल्कुल भी सच नहीं है। इसे लेकर किसी भी प्रकार की कोई स्टडी नहीं मिलती है, जो शरीर पर सफेद दाग और मछली-दूध को साथ में जोड़ती हो। एक्सपर्ट बताते हैं कि यह एक ऑटोइम्यून डिसऑर्डर होता है। जिस पर भोजन के कॉम्बिनेशन का प्रभाव नहीं पड़ता है। बता दें, कि ऑटोइम्यून उस स्थिति को कहते हैं जब शरीर का इम्यून सिस्टम शरीर के हेल्दी सेल्स को अटैक करने लगता है।

​विटिलिगो छुने से फैलता है

navbharat times

इसे लेकर किसी प्रकार की कोई स्टडी नहीं मिलती है। जानकार बताते हैं कि विटिलिगों की बीमारी संक्रामक नहीं होती है। ऐसे में इससे ग्रसित मरीजों का छुआ कुछ खाने-पीने से, छु लेने से, रक्त या सेक्स करने से यह बीमारी नहीं फैलती है।

​ज्यादा साबून के इस्तेमाल से होते हैं सफेद धब्बे

navbharat times

यह धारणा भी बिल्कुल गलत है। जैसा कि हमने भी बताया कि विटिलिगों एक ऑटोइम्यून के वजह से होने वाली बीमारी है। इसमें किसी बाहरी तत्वों का योगदान नहीं होता है।

लाइलाज होते हैं ये सफेद दाग

navbharat times

शरीर पर पड़ने वाले सफेद दाग संक्रामक के साथ जानलेवा भी नहीं होते हैं। इस बीमारी का इलाज पूरी तरह से संभव है। सफेद दाग के उपचार से प्रभावित त्वचा का रंग वापस आ सकता है।

​क्या है विटिलिगो के होने की असली वजह

navbharat times
  • प्रतिरक्षा प्रणाली का एक विकार
  • पारिवारिक इतिहास (आनुवंशिकता)
  • तनाव
  • गंभीर सनबर्न
  • स्किन ट्रॉमा

आप इन धारणाओं से भ्रमित होकर विटिलिगो से ग्रसित लोगो को उपेक्षित महसूस कराने की गलती न करें।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments