Tuesday, June 28, 2022
HomeCrimesocial media crime news: Cyber Crime: गूगल पर मिठाई की दुकान का...

social media crime news: Cyber Crime: गूगल पर मिठाई की दुकान का फोन नंबर बदलकर ग्राहकों से कर रहे थे ठगी


विशेष संवाददाता, रोहिणीः मिठाइयों की होम डिलीवरी के नाम पर साइबर फ्रॉड के मामले का रोहिणी साइबर सेल ने खुलासा किया है। पुलिस ने इस बाबत मेवात बेस्ड गैंग के दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनके पास से मोबाइल फोन जब्त कर 107 फर्जी अकाउंट की पहचान की गई है। आरोपियों की पहचान भरतपुर निवासी 28 वर्षीय राकिब और नूंह हरियाणा निवासी 27 वर्षीय मोहम्मद आरिफ के तौर पर हुई है। राकिब खुद को गर्ग स्वीट का मालिक बताकर मिठाई खरीदने के इच्छुक लोगों से रुपए अपने अकाउंट में डलवा लेता था। इसके बाद लोगों को उनका सामान भी नहीं मिलता था।

navbharat times

ATM कार्ड क्लोन कर ठगी करने वाले 4 बदमाश गिरफ्तार, सरगना फरार, गोवा-उत्तराखंड में बनवाईं आलीशान कोठियां
रोहिणी डिस्ट्रिक्ट डीसीपी प्रणव तायल के मुताबिक, 15 अप्रैल को ऑनलाइन साइबर फ्रॉड को लेकर सनी गर्ग ने शिकायत दर्ज कराई। जिसमें बताया कि किसी ने गूगल पर उनकी दुकान गर्ग स्वीट्स के फोन नंबर को बदल दिया है। अगर कोई उनकी दुकान का नंबर गूगल पर सर्च कर रहा है, तो वह नहीं मिल रहा। पीड़ित लोग जालसाजों द्वारा दिए गए नंबर पर संपर्क कर मिठाई का आर्डर दे रहे हैं। ठग अपने अकाउंट में पैसे ट्रांसफर करवाकर मिठाई दुकान से उठाने का झांसा देकर फ्रॉड कर रहे हैं। जिसकी वजह से कई लोग ठगी का शिकार हो चुके हैं। बाद में वे लोग उनकी शॉप पर शिकायत करने आते हैं। इस बाबत साइबर थाना रोहिणी में केस दर्ज किया गया। टीम ने आरोपियों के मोबाइल नंबर, अकाउंट नंबर की जांच की। इससे उनकी पहचान कर ली गई। पुलिस टीम ने भरतपुर राजस्थान में रेड कर राकिब को पकड़ लिया, उसके पास से एक मोबाइल बरामद हुआ। इसके बाद उसके सहयोगी मोहम्मद आरिफ को भी अरेस्ट कर लिया गया।

navbharat timesछह दिन में पैसा हो जाएगा डबल, बिटकॉइन में करें निवेश… झांसे में आकर भोपाल की लड़की ने डाल दिए लाखों रुपये
राकिब ने पुलिस को बताया वह लोकल रिपोर्टर है और राकिब पत्रकार मेवात के नाम से यूट्यूब चैनल चलाता है। वह फर्जी बैंक अकाउंट की सुविधा देने वाले लोगों के संपर्क में आकर धंधे में उतर आया। उसने अपने गांव में किसी पड़ोसी से फर्जी बैंक अकाउंट खरीदे और उन्हें अपने सहयोगियों को बेच दिया। हर एक अकाउंट 5 से 15 हजार रुपये कीमत का था। पुलिस अब इस रैकेट में शामिल अन्य आरोपियों के बारे में जानकारी जुटा रही है।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments