Scholz to become german chancellor after securing coalition deal to end angela markel era


बर्लिन. जर्मनी (Germany) में लंबे वक्त तक चांसलर रहीं एंजेला मर्केल (Angela Merkel) के युग का अंत हो गया है. सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी (Olaf Scholz)के नेता ओलाफ शॉल्त्स ने बुधवार को कहा कि नई सरकार बनाने के लिए तीन दलों के बीच समझौता हो गया है. शॉल्त्स ने कहा कि नई सरकार बड़े प्रभावों की राजनीति की संभावना की तलाश करेगी. उन्होंने जोर दिया कि संप्रभु यूरोप का महत्व, फ्रांस के साथ मित्रता और अमेरिका के साथ साझेदारी जैसे मुद्दे सरकार की विदेश नीति के प्रमुख आधार होंगे तथा युद्ध के बाद की लंबी परंपरा जारी रखी जाएगी.

जिन कदमों के बारे में शुरुआती सहमति बनी है उनमें उन जगहों पर वैक्सीनेशन अनिवार्य बनाना है, जहां विशेष रूप से कमजोर लोगों की देखभाल की जाती है. जर्मनी में कोविड के नए मामलों में वृद्धि देखी गयी है और राजनीतिक परिवर्तन ने इस दिशा में उठाए जाने वाले कदमों को कुछ हद तक बाधित कर दिया है. शॉल्त्स ने कहा कि नयी सरकार बड़े प्रभावों की राजनीति की संभावना की तलाश करेगी. उन्होंने जोर दिया कि संप्रभु यूरोप का महत्व, फ्रांस के साथ मित्रता और अमेरिका के साथ साझेदारी जैसे मुद्दे सरकार की विदेश नीति के प्रमुख आधार होंगे और युद्ध के बाद की लंबी परंपरा जारी रखी जाएगी.

16 साल बाद रिटायर होंगी चांसलर एंजेला मर्केल, जानें भारत के लिए कितने अहम हैं ये चुनाव

एंजेला मर्केल का दौर हुआ खत्म
इस बीच, ग्रीन पार्टी के सह-नेता रॉबर्ट हैबेक (Robert Habeck) ने कहा कि सरकार द्वारा उठाए जाने वाले कदम जर्मनी को 2015 के पेरिस जलवायु समझौते (Paris Climate Agreement) के लक्ष्यों को पूरा करने के रास्ते पर ले जाएंगे. इससे पहले कहा गया था कि अगली सरकार बनाने के लिए बातचीत कर रहे तीनों दल बुधवार को गठबंधन समझौते को अंतिम रूप दे देंगे. इसके साथ ही लंबे समय से देश पर शासन कर रहीं चांसलर एंजेला मर्केल का दौर खत्म हो जाएगा और मौजूदा वित्त मंत्री तथा सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी नेता ओलाफ शॉल्त्स आने वाले दिनों में उनका स्थान ले सकते हैं.

राष्ट्रीय चुनाव में 26 सितंबर को मामूली जीत के बाद से सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी, ग्रीन पार्टी और फ्री डेमोक्रेट्स के साथ बातचीत कर रही है. पर्यावरणवादी ग्रीन पार्टी और फ्री डेमोक्रेटिक पार्टी ने कहा कि समझौते का ब्योरा बुधवार दोपहर बाद पेश किया जाएगा. अभी तक देश की किसी राष्ट्रीय सरकार में त्रिपक्षीय गठबंधन को नहीं आजमाया गया है. अगर तीनों दलों के सदस्य समझौते को अंतिम रूप देते हैं तो यह देश की पारंपरिक बड़ी पार्टियों के मौजूदा महागठबंधन की जगह लेगा. सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी मर्केल सरकार में जूनियर सहयोगी रही है.

जर्मनी की चांसलर मर्केल से पीएम मोदी की मुलाकात, वैक्सीनेशन, आतंकवाद समेत इन मुद्दों पर हुई चर्चा

2005 से जर्मनी का नेतृत्व कर रही थीं मर्केल
मर्केल पांचवें कार्यकाल के लिए होड़ में नहीं थीं. सोशल डेमोक्रेटिक नेता ओलाफ शॉल्त्स उनका स्थान ले सकते हैं. सरकार में शामिल होने वाली तीनों पार्टियों ने कहा कि उन्हें उम्मीद है कि संसद छह दिसंबर से शुरू होने वाले सप्ताह में ओलाफ शॉल्त्स को चांसलर के रूप में चुन लेगी. उससे पहले समझौते को तीनों दलों के सदस्यों से अनुमोदन की आवश्यकता होगी.

गठबंधन के लिए समझौते की खबर ऐस समय आई जब मर्केल ने संभवत: अपनी आखिरी कैबिनेट बैठक की अध्यक्षता की. वित्त मंत्री शॉल्त्स ने 67 वर्षीय मर्केल को फूलों का गुलदस्ता भेंट किया जो 2005 से जर्मनी का नेतृत्व कर रही हैं. (एजेंसी इनपुट)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: