Sunday, July 3, 2022
HomePoliticalsatyendar jain money laundering ed case: satyendar jain ed case, मनी लॉन्ड्रिंग...

satyendar jain money laundering ed case: satyendar jain ed case, मनी लॉन्ड्रिंग केस में सत्येंद्र जैन की जमानत अर्जी पर आज आएगा आदेश!

प्रमुख संवाददाता, राउज एवेन्यू कोर्टः मनी लॉन्ड्रिंग केस के सिलसिले में गिरफ्तार दिल्ली के मंत्री सत्येंद्र जैन की जमानत अर्जी पर अदालत शनिवार यानी आज अपना आदेश सुना सकती है। जैन अभी न्यायिक हिरासत में जेल में बंद हैं। स्पेशल जज गीतांजलि गोयल ने 14 जून को मंत्री की अर्जी पर दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अपना आदेश सुरक्षित रख लिया था। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 2017 में दर्ज मनी लॉन्ड्रिंग के एक केस के सिलसिले में जैन को 30 मई को गिरफ्तार किया था। जैन 13 दिनों तक ईडी की रिमांड में रहे। इसके बाद अदालत ने 13 जून को उन्हें न्यायिक हिरासत में लेते हुए जेल भेज दिया था।

navbharat times

Satyendar Jain ED Case: मंत्री जी ये पैसे कहां से आए… ईडी के सवाल पर सत्येंद्र जैन बोले- कोरोना के कारण याददाश्त चली गई
सुनवाई के दौरान, आप नेता की ओर से एडवोकेट एन. हरिहरन ने दलील दी कि वह जांच में लगातार सहयोग कर रहे हैं। उनके भागने या फरार होने की कोई संभावना नहीं है। ईडी को जो दस्तावेज चाहिए, वो जब्त किए जा चुके हैं। ऐसे में उनमें किसी तरह की छेड़छाड़ की कोई संभावना नहीं है। उन्हें स्लीप एपनिया (सोते समय सांस लेने में दिक्कत होना) भी है, जो गंभीर है। यह एक ऐसी बीमारी है, जिसमें मरीज की अचानक मौत तक हो सकती है। इस पर 24 घंटे नजर बनाकर रखे जाने की जरूरत होती है।

navbharat timesसत्येंद्र जैन बहुत धीमा लिखते हैं, एक पेज लिखने में 2 घंटे का समय लेते हैं… जब ईडी ने अदालत को बताईं ये बातें
ईडी की ओर से अडिशनल सॉलिसिटर जनरल एस. वी. राजू ने अर्जी का विरोध किया। उन्होंने अदालत को बताया कि मामला नकदी को वैध बनाने और फिर उसके इस्तेमाल से जुड़ा है। इसकी जांच के दौरान ‘लाला शेर सिंह ट्रस्ट’ के संबंध में इसी तरह के लेन-देन का पता चला। जब हमने जैन से इस बारे में पूछा तो उन्होंने इस ट्रस्ट के नाम से भी पूरी तरह अनजान बनने की कोशिश की। इसके बाद 10 जून को एक दस्तावेज सामने आया, जिससे यह साफ हुआ कि वह ट्रस्ट के अध्यक्ष हैं। एजेंसी ने यह भी कहा कि किसी भी सवाल पर मंत्री का जवाब यह होता था कि कोरोना होने के बाद से उनकी याददाश्त काफी कमजोर हो गई है। जमानत मिलने पर गवाहों को प्रभावित करने की कोशिश की जा सकती है।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments