property tax north mcd: नॉर्थ MCD में नहीं बढ़ेगा प्रॉपर्टी टैक्स, बजट में प्रॉपर्टी टैक्स दरों में बढ़ोतरी का प्रस्ताव रद्द हुआ – north mcd property tax proposal rejected in budget


प्रमुख संवाददाता, नई दिल्ली: करीब दो साल तक लगातार कोरोना संक्रमण, बेरोजगारी और कारोबार की समस्या से जूझ रहे नॉर्थ एमसीडी एरिया में रहने वाले लोगों को एमसीडी के 2022-23 बजट से राहत की उम्मीद थी। लेकिन, शुक्रवार को नेता सदन छैल बिहारी गोस्वामी ने बैठक में जो बजट पेश किया, उसमें टैक्स दरों में बढ़ोतरी के प्रस्ताव रद्द कर दिया गया। 58 पेज के बजट भाषण में एक चौथाई पेज में दिल्ली सरकार की आलोचना की गई हैं। बजट नॉर्थ एमसीडी मेयर राजा इकबाल सिंह के समक्ष पेश किया गया।

navbharat times
Budget Session 2022: ‘बजट के नाम पर गरीबों के साथ क्रूर मजाक’, लोकसभा में सरकार पर बरसे अधीर रंजन

वित्तीय वर्ष 2022-23 के फाइनल बजट में नॉर्थ एमसीडी कमिश्नर द्वारा प्रस्तावित प्रॉपर्टी टैक्स दरों में बढ़ोतरी के सभी प्रस्तावों को पूरी तरह से रद्द कर दिया गया। बजट में बेरोजगारों के लिए शालीमार बाग में अटल मेले का आयोजन करने की बात कही गई है। मेले में रोजगार के अवसर के लिए कुछ दिनों तक लोग दुकान लगा कर कमाई कर सकते हैं। एलएनजेपी हॉस्पिटल के पास स्थित महिला हाट में भी अब शादी के आयोजन के लिए बुकिंग शुरू करने का प्रावधान बजट में शामिल किया गया है। इसके अलावा बजट में अवैध कॉलोनियों में एमसीडी फंड के तहत विकास कार्यों को कराने का प्रावधान भी शामिल किया गया है। 58 पेज के बजट भाषण में करीब एक चौथाई पेज दिल्ली सरकार पर आरोप-प्रत्यारोप से भरे हैं।

navbharat timesरोजगार पर गुमराह कर रहा है विपक्ष, बीजेपी का दावा- संगठित और असंगठित दोनों क्षेत्र में बढ़ रहीं नौकरियां
फाइनल बजट पर कांग्रेस नेता प्रेरणा सिंह का कहना है कि बजट सिर्फ कागजी है। इसका वास्तविकता से कोई लेनादेना नहीं है। पिछले साल के बजट मं सिर्फ 1700 करोड़ बढ़ोतरी कर 7504 करोड़ रुपये का बना दिया गया है। न तो लोगों के हित में कोई विशेष प्रोजेक्ट या डिवेलपमेंट वर्क की घोषणा की गई है और न ही कोरोना से पिछले दो सालों से जूझ रहे लोगों को राहत दी गई है।

आम आदमी पार्टी पार्षद व नेता विपक्ष विकास गोयल ने भी सत्तारूढ़ बीजेपी नेताओं पर निशाना साधा। उनका कहना है कि अपनी नाकामियों को छुपाने के लिए नेता सदन ने बजट भाषण में दिल्ली सरकार पर निशाना साधा है। दोबारा स्कूल कैसे खुलेंगे और उन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के भविष्य को लेकर बजट में कोई रणनीति नहीं है। हर साल बजट में कच्चे कर्मचारियों को नियमित करने की घोषणा की जाती है, लेकिन कभी इस पर अमल नहीं किया जाता।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: