Thursday, August 11, 2022
spot_img
HomeCrimePitbull News: नगर निगम की कस्टडी से ट्रेनर के पास पहुंचा पिटबुल......

Pitbull News: नगर निगम की कस्टडी से ट्रेनर के पास पहुंचा पिटबुल… मालिक की बात दिल जीत लेगी – pitbull who thrashed mistress in lucknow reached trainer from custody of municipal corporation


लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) की राजधानी लखनऊ के कैसरबाग के बंगाली टोला में बुजुर्ग मालकिन को नोचकर मारने वाले पिटबुल ब्रीड का डॉग ब्राउनी (Pitbull Dog Brauni) अब ट्रेनर के पास पहुंच गया है। गुरुवार को दिन भर पिटबुल की कस्टडी को लेकर हलचल दिखी। पिटबुल के मालिक जिम ट्रेनर अमित त्रिपाठी सुबह नगर निगम दफ्तर पहुंचे तो उन्हें शपथ पत्र लेकर वापस लौटा दिया गया। इसके बाद कई अन्य पिटबुल लवर्स भी इसकी कस्टडी को लेकर इच्छुक दिखे। बाद में नगर निगम की ओर से अमित को पिटबुल सौंपा गया और वह उसे लेकर डॉग ट्रेनर के पास पहुंचा दिया। ट्रेनर की ट्रेनिंग और व्यवहार में सबकुछ सही पाए जाने पर ही ब्राउनी को अपने मालिक अमित के पास वापस जाने की अनुमति मिलेगी।

मां के निधन से दुखी अमित त्रिपाठी ने कहा कि इस पूरी घटना में ब्राउनी को गुनाहगार नहीं माना जा सकता है। जानवर कभी-कभी बेकाबू हो जाते हैं। ऐसे में उन्हें हम नहीं छोड़ सकते। उन्होंने कहा कि आदेश के तहत हमने नगर निगम से अपने कुत्ते को निकाल कर ट्रेनर के यहां पहुंचा दिया है। वहां से जब सर्टिफिकेट मिलेगा और जैसा आदेश होगा, उस आधार पर कार्रवाई करेंगे। क्या कुत्ते को अपने घर लेकर आएंगे? इस सवाल पर अमित ने एनबीटी ऑनलाइन से बात करते हुए कहा कि क्यों नहीं लाएंगे? हमारी मां नहीं रही, अब इसकी सजा कुत्ते को कैसे दे सकते हैं। जब भी ट्रेनिंग सेशन पूरा हो जाएगा और कुत्ते के व्यवहार को सामान्य पाया जाएगा, तो फिर उसे घर में रखने में क्या दिक्कत होगी?

दिया बांके का उदाहरण
अमित ने गैंडा बांके का उदाहरण देते हुए कहा कि जानवरों को आप इन घटनाओं से जज नहीं कर सकते। दरअसल, दुधवा नेशनल पार्क में गैंडा पुनर्वास परियोजना के नायक माने जाने वाले गैंडे बांके का संदिग्ध परिस्थिति में निधन हुआ था। उसके शरीर पर चोट के निशान थे। माना जा रहा था कि यह चोट उसके ही परिवार के सदस्यों ने दिए थे। इस उदाहरण के जरिए अमित ने कहा कि जानवरों का व्यवहार किस समय क्या हो जाए? कैसे कह सकते हैं? अमित का कहना है कि हम लगातार ट्रेनर के संपर्क में रहेंगे और कुत्ते से मुलाकात करेंगे।

एबीजे सेंटर में रखा गया था ब्राउनी
अपनी मालकिन को नोचकर मारने वाले पिटबुल ब्राउनी को नगर निगम की ओर से एबीजे सेंटर में रखा गया था। वहां 14 दिनों तक उसके व्यवहार पर नजर रखी गई। इस दौरान वह कोई खास गंभीर हरकत करता नहीं दिखा। हालांकि, निगम प्रशासन की ओर से साफ किया गया था कि हिरासत अवधि के बाद पिटबुल को किसी डॉग ट्रेनर को ही सौंपा जाएगा। इस स्थिति में मालिक का डॉग को नहीं देने की बात कही गई थी। नगर निगम के पशु कल्याण अधिकारी डॉ. अभिनव वर्मा के नेतृत्व में गठित टीम ने पिटबुल की गतिविधियों पर नजर रखी।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments