Mukhtar Ansari Sentenced by High Court: इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने माफिया मुख्तार अंसारी को 23 साल पुराने गैंगस्टर ऐक्ट के केस में 5 साल की सजा और 50 हजार रुपये जुर्माने क सजा का ऐलान किया है


लखनऊ: माफिया डॉन मुख्तार अंसारी को 23 साल पुराने गैंगस्टर ऐक्ट के मामले में सजा सुना दी गई है। इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में मामला चल रहा था। इस मामले में कोर्ट ने सजा का ऐलान किया। मुख्तार को मामले में दोषी मानते हुए हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने 5 साल कैद की सजा सुनाई है। मुख्तार अंसारी के खिलाफ वर्ष 1999 में हजरतगंज थाने में गैंगस्टर ऐक्ट के तहत मामला दर्ज कराया गया था। इस मामले में 5 साल की कैद के साथ-साथ मुख्तार अंसारी पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है। हाई कोर्ट में जस्टिस दिनेश कुमार सिंह की एकल पीठ ने शुक्रवार को मुख्तार के खिलाफ सजा का ऐलान किया।

योगी आदित्यनाथ सरकार में मुख्तार अंसारी पर शिकंजा कसता जा रहा है। कोर्ट में प्रभावी पैरवी के जरिए माफिया डॉन को सजा दिलाने की जो कार्रवाई शुरू की गई है, शुकवार की सजा के ऐलान में भी साफ झलका। कोर्ट ने 1999 की घटना के मामले में निचली अदालत के खिलाफ की गई राज्य सरकार की अपील पर माफिया डॉन के खिलाफ सजा का ऐलान किया। निचली अदालत की ओर से इस मामले में मुख्तार को राहत दे दी गई थी। सरकार इसके खिलाफ हाई कोर्ट गई। यहां पर मुख्तार अंसारी को दोषी करार दिया गया। आज 5 लाख रुपये और 50 हजार जुर्माने का ऐलान किया गया।

1999 में माफिया पर दर्ज हुआ था मुकदमा
माफिया मुख्तार अंसारी पर हजरतगंज थाने में वर्ष 1999 में केस दर्ज कराया गया था। इससे पहले मुख्तार अंसारी पर पिछले 34 सालों में पहली बार सजा का ऐलान किया गया। बुधवार को कोर्ट ने 7 साल की सजा सुनाई थी। माफिया मुख्तार के खिलाफ 59 मुकदमे दर्ज हैं। इसमें से अधिकांश गाजीपुर में दर्ज कराए गए हैं।

मुख्तार अंसार के खिलाफ मऊ में 9 और वाराणसी में 9 केस दर्ज हैं। राजधानी लखनऊ में मुख्तार के खिलाफ 7 केस दर्ज हैं। आलमबाग केस में ही मुख्तार के खिलाफ 7 साल की सजा हुई है। अब दूसरी सजा के ऐलान के बाद मुख्तार की मुश्किलें आगे बढ़ती दिख रही हैं।



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: