milk benefits, दो साल के बच्‍चे को रोज चाहिए सिर्फ इतना दूध, इससे ज्‍यादा पीने के नुकसान जान उड़ जाएंगे आपके होश – how much milk should a toddler drink


दूध को अक्‍सर एक संपूर्ण फूड के तौर पर देखा जाता है क्‍योंकि यह कैल्शियम, विटामिन डी, फैट और प्रोटीन से भरपूर होता है। लगभग हर घर में टॉडलर बच्‍चों को सुबह उठते ही सबसे पहले नाश्‍ते में दूध पिलाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि बढ़ते बच्‍चों के लिए दूध बहुत आवश्‍यक है और इससे बच्‍चों की हड्डियों को ताकत मिलती है। पैरेंट्स ये तो जानते हैं कि बच्‍चों की ग्रोथ के लिए दूध जरूरी है लेकिन उन्‍हें ये मालूम नहीं होता कि टॉडलर बच्‍चों को कितना दूध पिलाना चाहिए।

दूध में मौजूद पोषक तत्‍व टॉडलर बच्‍चों के हेल्‍दी विकास में मदद करते हैं और शारीरिक कार्यों को बनाए रखते हैं। हालांकि, ऐसे कई अन्‍य फूड्स भी हैं जिनमें दूध के जितने ही न्‍यूट्रिएंट्स होते हैं जैसे कि लीन मीट, मछली और टोफू।

आमतौर पर अगर बच्‍चा दूध नहीं पीता है तो संतुलित आहार की मदद से उसे जरूरी पोषक तत्‍व दिए जा सकते हैं। हालांकि, बच्‍चे की डाइट से दूध को हटाने से पहले माता-पिता को डॉक्‍टर से जरूर पूछना चाहिए।

इस आर्टिकल में हम बात करेंगे टॉडलर बच्‍चों के लिए दूध के फायदों, इसके अधिक सेवन से जुड़े संभावित जोखिमों आदि के बारे में।

फोटो साभार : TOI

​टॉडलर बच्‍चों को कितना दूध पीना चाहिए

navbharat times

अमेरिकन एकेडमी ऑफ पीडियाट्रिक्‍स के अनुसार 12 महीने के हेल्‍दी बच्‍चे को ब्रेस्‍टमिल्‍क या फॉर्मूला से गाय का दूध पिलाना शुरू कर सकते हैं। एक से दो साल के बच्‍चे को दिन में दो से तीन कप और दो से पांच साल के बच्‍चे को 2 से 2.5 कप दूध पिलाना चाहिए।

फोटो साभार : TOI

​ब्रेस्टफीडिंग करनी है या नहीं

navbharat times

बच्‍चे को गाय या अन्‍य कोई एनी‍मल मिल्‍क पिलाना शुरू करने का यह मतलब नहीं है कि आप उसे ब्रेस्‍टफीडिंग करवाना बंद कर दें। आप टॉडलर बच्‍चों को भी स्‍तनपान करवा सकती हैं। अगर बच्‍चे को गाय या भैंस के दूध से एलर्जी है तो वो सोया मिल्‍क पी सकता है।

फोटो साभार : TOI

​टॉडलर बच्‍चों के लिए दूध के फायदे

navbharat times

healthline में प्रकाशित एक लेख में अरिजोना के फोनिक्‍स में बेबी ब्‍लूम न्‍यूट्रिशियन याफी ल्‍वोवा का कहना है कि दो साल और इससे कम उम्र के बच्‍चों के लिए दूध जरूरी है क्‍योंकि इसमें कैल्शियम, फैट और प्रोटीन होता है।

बच्‍चों को ग्रोथ के लिए इस समय इन तीन न्‍यूट्रिएंट्स की बहुत जरूरत होती है और दूध से ये तीनों आसानी से मिल जाते हैं।

फोटो साभार : TOI

​ज्‍यादा दूध पीने पर क्‍या होता है

navbharat times

कई बार पैरेंट्स बच्‍चे को जरूरत से ज्‍यादा दूध पिला देते हैं जिसकी वजह ये कुछ परेशानियां होने लगती हैं। गाय के दूध में फैट होता है और इससे बच्‍चे का पेट जल्‍दी भर जाता है और बच्‍चा बाकी चीजें नहीं खा पाता है। इससे पोषण में असंतुलन पैदा होता है और बच्‍चे को कब्‍ज जैसी समस्‍याएं घेरने लगती हैं।

फोटो साभार : TOI

​अन्‍य पोषक तत्‍वों पर असर

navbharat times

दूध में फैट और कार्ब ज्‍यादा होता है इसलिए इसके अधिक सेवन से खासतौर पर दो साल से अधिक उम्र के बच्‍चों में कैलोरी अधिक हो सकती है। कैलोरी ज्‍यादा मिलने पर बच्‍चे को वजन बढ़ सकता है और उसे टाइप 2 डायबिटीज जैसी गंभीर बीमारियां आगे चलकर घेर सकती हैं।



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: