Sunday, July 3, 2022
HomeHealth Newsmen's health week: 4 supplements can help men to keep deadly diseases...

men’s health week: 4 supplements can help men to keep deadly diseases at bey after age of 40 – Men’s Health: 40 के बाद बढ़ने लगता है जानलेवा बीमारियों का खतरा, इन 4 सप्लीमेंट्स की मदद से रख सकते हैं शरीर को अंदर से जवां


संतुलित आहार (Balanced Diet) और शारीरिक गतिविधियां हर उम्र में सेहतमंद रहने के लिए जरूरी है। आप चाहे आदमी हो या औरत आपके स्वास्थ्य का भाग्य निर्धारण आपकी आदते करती हैं। दरअसल, इस मामले में आदमी की हालत औरतों से ज्यादा खराब होती है। हालांकि ऐसे कई कारक हैं जो पुरुषों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालते हैं। लेकिन सबसे सामान्य कारण है ज्यादा देर तक भारी भरकम कामों को करना और शराब-सिगरेट की लत। अगर आप 40 की उम्र से पहले अपने स्वास्थ्य संबंधी मुद्दों को अच्छी तरह से मैनेज करना नहीं सीखते हैं तो यह जल्द ही जानलेवा बीमारियों में बदल सकते हैं। यह शुरूआत होती है मांसपेशियां की कमजोरी, टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन में रूकावट और ऊर्जा का स्तर कम होने जैसी समस्याओं से।

बढ़ती उम्र और जीवनशैली के अनुसार शरीर में पोषक तत्व, विटामिन और मिनरल्स की कमी होने लग जाती है। हमेशा आप सर्फ सब्जियों और फलों के सेवन से इसकी पुर्ति नहीं कर सकते हैं। ऐसे में इनकी कमी को पूरा करने के लिए सप्लीमेंट्स की जरूरत होती है। ये इम्युनिटी बढ़ाने से लेकर, ऊर्जा को बढ़ावा देने, मांसपेशियों के निर्माण करने और हड्डियों को मजबूत करने और एंटीऑक्सिडेंट के रूप में काम करने तक सभी पोषक तत्वों की भरपाई करते हैं। ऐसे में आज हम कुछ सप्लीमेंट्स लेकर आए हैं जो पुरूषों में बढ़ती उम्र की शारीरिक परेशानियों में आराम पहुंचा सकता है।

​विटामिन डी

navbharat times

विटामिन डी टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाता है। पुरुषों में इसकी कमी होने से थकान, स्लीप एपनिया, कम मेटाबॉलिज्म और भूख न लगने का खतरा हो सकता है। विटामिन डी इम्यूनिटी को बूस्ट करने के साथ ही कोरोनरी रोगों से बचाव करता है और दिमाग को शांत रखने में मदद करता है।

अध्ययनों से यह भी पता चलता है कि यह डीएनए की मरम्मत में सुधार करता है, और विभिन्न प्रकार के कैंसर से सुरक्षा भी प्रदान करता है। सप्लीमेंट्स के अलावा, विटामिन डी कॉड लिवर ऑयल, सैल्मन, टूना आदि में भरपूर रूप से मौजूद होता है। डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही विटामिन डी के सप्लीमेंट्स को लेने की सलाह दी जाती है।

​मैग्नीशियम

navbharat times

अधिक कैफीन के सेवन और लंबे समय से मानसिक तनाव से ग्रसित होने के कारण पुरुष अक्सर मैग्नीशियम की कमी से पीड़ित होते हैं। मैग्नीशियम शरीर में मांसपेशियों को मजबूत करने के साथ हृदय रोगों और मधुमेह से भी सुरक्षा प्रदान करता है। सप्लीमेंट के अलावा मैग्नीशियम पालक, कद्दू के बीज, बादाम और एवोकाडो जैसे खाद्य पदार्थों में पाया जाता है। डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही मैग्नीशियम के सप्लीमेंट्स को लेने की सलाह दी जाती है।

​जिंक

navbharat times

टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन में जिंक एक महत्वपूर्ण घटक है और इसकी कमी से इरेक्टाइल डिसफंक्शन हो सकता है। इसलिए, बढ़ती उम्र के साथ शरीर में जिंक की पर्याप्त मात्रा जरूरी होता है। इसके सप्लीमेंट के अलावा रेड मीट और पोल्ट्री, बेक्ड बीन्स, छोले और नट्स सभी जिंक के बेहतरीन स्रोत हैं।

यह सामान्य रूप से प्रोस्टेट स्वास्थ्य को बनाए रखने में भी मदद करता है। बेहतर लाभ के लिए डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही जिंक के सप्लीमेंट्स को लेने की सलाह दी जाती है।

​विटामिन बी6

-6

विटामिन बी6 हीमोग्लोबिन के उत्पादन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है और इसलिए, शरीर में इसकी उपस्थिति एनीमिया को रोकने के लिए महत्वपूर्ण है। इसकी कमी से व्यक्ति हर समय कम कमजोर और थका हुआ महसूस कर सकता है। स्वस्थ तंत्रिका तंत्र और प्रतिरक्षा प्रणाली को बनाए रखने के लिए भी यह विटामिन बहुत महत्वपूर्ण है।

विटामिन बी6 ब्लड सर्कुलेशन को बेहतर करने में भी मदद करता है। चिकन, मछली, मक्का, आलू जैसे खाद्य पदार्थों विटामिन बी6 के उत्तम स्त्रोत माने जाते हैं। डॉक्टर से परामर्श करने के बाद ही विटामिन बी6 के सप्लीमेंट्स से भी इसकी कमी को पूरा किया जा सकता है।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments