keriwal on bjp, CM अरविंद केजरीवाल ने बताया बीजेपी को देश की सबसे भ्रष्ट पार्टी – cm kejriwal calls bjp most corrupt party

विशेष संवाददाता, नई दिल्ली: सोमवार को विधानसभा में विश्वास प्रस्ताव पेश करते वक्त बीजेपी को देश की सबसे भ्रष्ट पार्टी बताने वाले सीएम अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए वह फिर जमकर बरसे और बीजेपी को देश की ‘सबसे बेईमान पार्टी’ बताया। उन्होंने नैशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (एनसीआरबी) की ताजा रिपोर्ट का जिक्र करते हुए दिल्ली में सुरक्षा व्यवस्था की बदहाल स्थिति को लेकर भी चिंता जताई। खासकर महिला सुरक्षा को लेकर उन्होंने केंद्र सरकार और एलजी से तुरंत जरूरी कदम उठाने की अपील की।

आम आदमी पार्टी के विधायक पिछले कुछ दिनों से एलजी पर भी भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगा रहे हैं। इसके जवाब में एलजी ने भी उन पर आरोप लगाने वाले आप के विधायकों और नेताओं के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने की बात कही है। इस सिलसिले में केजरीवाल ने एलजी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अगर हम लोग पब्लिक लाइफ में हैं, तो हमें किसी भी तरह की जांच-पड़ताल के लिए तैयार रहना चाहिए। अगर हमने कुछ गलत नहीं किया है, तो फिर डरना कैसा। जिसे जो जांच करनी है, वो करे। मनीष सिसोदिया ने तो अपने ऊपर आरोप लगने के बाद किसी के ऊपर मानहानि का केस करने की धमकी नहीं दी। सीबीआई ने उनके खिलाफ सारी जांच कर ली, लेकिन कहीं कुछ नहीं मिला और आज वह मोदी जी और सीबीआई से क्लीन चिट लेकर बैठे हैं। हालांकि, इसके बावजूद सीबीआई उन्हें कुछ दिन में गिरफ्तार करेगी, क्योंकि सीबीआई पर राजनीतिक दबाव है, लेकिन हमें गिरफ्तारी से डर नहीं लगता।

navbharat times
सीरियल किलर घूम रहा है… केजरीवाल का दिल्ली असेंबली से मोदी सरकार पर 10 बड़े हमले

सीएम ने कहा कि जबसे मनीष सिसोदिया के घर में सीबीआई की रेड पड़ी है, तबसे गुजरात में हमारा वोट 4 फीसदी बढ़ गया है। जिस दिन इन्हें गिरफ्तार करेंगे, हमारा वोट 6 फीसदी और बढ़ जाएगा। उन्होंने आम आदमी पार्टी के विधायकों और मंत्रियों पर झूठे आरोप लगाने का दावा करते हुए बताया कि अभी तक हमारे 49 विधायकों पर 169 केस दर्ज हो चुके हैं, लेकिन उनमें से 134 केस कोर्ट ने खत्म कर दिए। केवल 35 केस पेंडिंग हैं। मुझे लगता है कि वो भी इसी तरह खारिज हो जाएंगे।

मैं अच्छे स्कूल, अस्पताल, मोहल्ला क्लीनिक बनवा रहा हूं, फ्री बिजली और पानी की व्यवस्था कर रहा हूं, तो उसमें गलत क्या है। मैं अपने दोस्तों के करोड़ों के कर्जे माफ नहीं कर रहा और ना स्विस बैंक में पैसा जमा करवा रहा हूं। मैं चाहता हूं कि मुझे और मेरे बच्चों को जिस तरह की अच्छी शिक्षा मिली, वैसी अच्छी शिक्षा देश के हर बच्चे को मिले, ताकि उनका भविष्य सुधर सके।

अरविंद केजरीवाल

केजरीवाल ने कहा कि अगर मैं अच्छे स्कूल, अस्पताल, मोहल्ला क्लीनिक बनवा रहा हूं, फ्री बिजली और पानी की व्यवस्था कर रहा हूं, तो उसमें गलत क्या है। मैं अपने दोस्तों के करोड़ों के कर्जे माफ नहीं कर रहा और ना स्विस बैंक में पैसा जमा करवा रहा हूं। मैं चाहता हूं कि मुझे और मेरे बच्चों को जिस तरह की अच्छी शिक्षा मिली, वैसी अच्छी शिक्षा देश के हर बच्चे को मिले, ताकि उनका भविष्य सुधर सके। उन्होंने कहा कि आज हम दो मांग कर रहे हैं। एक तो ये एमएलए खरीदना बंद करें, क्योंकि इसके लिए पैसों का इंतजाम करने के लिए हर चीज पर अनाप-शनाप टैक्स बढ़ाया जा रहा है, जिससे महंगाई बेकाबू होती जा रही है। दूसरा अपने दोस्तों के कर्जे माफ करने के बजाय उनसे ये सारा पैसा रिकवर करके किसानों और छात्रों के कर्जे माफ करें।

58-0 से पास हुआ विश्वास प्रस्ताव
सीएम अरविंद केजरीवाल की तरफ से विधानसभा में पेश किया विश्वास प्रस्ताव गुरुवार को पूर्ण बहुमत से पास हो गया। विपक्ष के कुछ सदस्यों को प्रस्ताव पर चर्चा खत्म होने और मत विभाजन से पहले ही बाहर निकाल दिया गया था और बाकी के सदस्य खुद ही वॉकआउट कर गए थे, इसलिए विरोध में कोई बचा नहीं था। मत विभाजन से पहले प्रस्ताव पर चर्चा का जवाब देते हुए सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आज हम ये कॉन्फिडेंस मोशन इसीलिए लाए हैं, क्योंकि इन्होंने देश में ऐसा माहौल बना दिया था कि किसी को भी खरीदा जा सकता है, लेकिन आम आदमी पार्टी के विधायकों को ये नहीं खरीद पाए। हमारे 12 विधायकों से इन्होंने संपर्क किया था और ये लोग 20-20, 25-25 करोड़ में हमारे 40 विधायकों को तोड़ना चाहते थे, हमारा एक भी विधायक नहीं बिका।

प्रस्ताव पर वोटिंग के दौरान आम आदमी पार्टी के केवल तीन विधायक सदन में मौजूद नहीं थे। स्पीकर रामनिवास गोयल और विधायक नरेश बालियान विदेश गए हुए हैं, जबकि सत्येंद्र जैन जेल में बंद हैं। सदन की कार्रवाही को संचालित कर रहीं डिप्टी स्पीकर राखी बिड़लान नियम अनुसार वोटिंग में हिस्सा नहीं ले सकती थीं। ऐसे में उन्हें छोड़कर सदन में मौजूद आम आदमी पार्टी के बाकी सभी 58 विधायकों ने प्रस्ताव के पक्ष में वोट दिया। ध्वनि मत से प्रस्ताव के पास होने के बाद विधायक सौरभ भारद्वाज ने प्रस्ताव पर मत विभाजन कराने का भी सुझाव दिया, जिसे स्वीकार करते हुए डिप्टी स्पीकर ने मत विभाजन कराया। आप के सभी 58 विधायकों ने अपनी जगह पर खड़े होकर प्रस्ताव का समर्थन किया। प्रस्ताव के विरोध में विपक्ष की तरफ से कोई भी सदस्य सदन में मौजूद नहीं था और ना ही कोई तटस्थ रहा। इस तरह पूरे बहुमत के साथ प्रस्ताव पास हो गया।



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.