Tuesday, June 28, 2022
HomeNewsjnu assistant professor kidnapped: JNU professor 'abducted, assaulted' after traffic dispute escalates:...

jnu assistant professor kidnapped: JNU professor ‘abducted, assaulted’ after traffic dispute escalates: JNU Professor Allegedly Kidnapped, Beaten After Argument On Road: Delhi: JNU assistant professor ‘abducted, verbally abused and physically assaulted’ after altercation in traff: जेएनयू के असिस्‍टेंट प्रोफेसर का अपहरण… शिक्षक संघ का आरोप- सड़क पर विवाद के बाद अंजाम दी गई वारदात


नई दिल्ली: जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (JNUTA) ने रविवार को आरोप लगाया कि जेएनयू के एक सहायक प्रोफेसर का सड़क पर यातायात संबंधी विवाद के बाद कुछ लोगों ने कई घंटों के लिए अपहरण कर लिया। इस दौरान उन्हें शारीरिक हमले, धमकी और वसूली का सामना करना पड़ा। कथित अपहरण और हिंसा के शिकार सहायक प्रोफेसर शरद बाविस्कर ने 18 जून को शिकायत दर्ज कराई थी, जिसके आधार पर एक प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है।

पुलिस उपायुक्त (पश्चिम) घनश्याम बंसल ने कहा कि इस मामले में सहायक प्रोफेसर की ओर से की गई शिकायत के आधार पर भारतीय दंड संहिता की धारा 323 (जानबूझकर चोट पहुंचाना), धारा 365 (किसी व्यक्ति का गुप्त और अनुचित रूप से सीमित/ कैद करने के आशय से व्यपहरण या अपहरण), धारा 392 (लूटपाट) और धारा 34 के तहत नारायणा थाने में प्राथमिकी दर्ज की गई है।

बंसल ने कहा कि आरोपियों की यथाशीघ्र धर-पकड़ के लिए टीम गठित की गई है। जेएनयूटीए के आरोप के मुताबिक, अपहरण के दौरान सहायक प्रोफेसर को शारीरिक हमले, धमकी और वसूली का सामना करना पड़ा।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय शिक्षक संघ (जेएनयूटीए) ने बयान जारी करके आरोप लगाया कि गत 17-18 जून की दरमियानी रात को प्रोफेसर पर हमला किया गया। यह घटना कथित रूप से सड़क यातायात विवाद के कारण हुई।

बयान में कहा गया कि प्रोफेसर शरद बाविस्कर (जो अपनी कार से अकेले जा रहे थे) ने जब सुझाव दिया कि विवाद को लेकर पुलिस थाने जाया जाए, तो बदमाशों के समूह ने उनका जबरन अपहरण कर लिया। बयान में कहा गया, ‘दिल्ली स्थित एक मकान में उन्हें ले जाया गया, जहां उन्हें तीन घंटे से अधिक समय तक कैद करके रखा गया। जब सहायक प्रोफेसर ने मुक्त करने के लिए अपने अपहरणकर्ताओं के सामने तर्क देने की कोशिश की, तो उन्हें मौखिक दुर्व्यवहार, शारीरिक हमला, धमकी और जबरन वसूली का शिकार होना पड़ा।’ जेएनयूटीए ने उम्मीद जताई कि दिल्ली पुलिस दोषियों को जल्द से जल्द पकड़ लेगी और प्रोफेसर बाविस्कर और उनके परिवार की सुरक्षा सुनिश्चित करेगी।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments