Jio Platforms’ subsidiary Asteria Aerospace, a drone manufacturer launches drone software platform Skydeck: जियो प्लेटफॉर्म्स लिमिटेड की सब्सिडियरी और भारत में ड्रोन बनाने वाली कंपनी एस्टेरिया एयरोस्पेस ने लॉन्च किया एंड-टू-एंड ड्रोन ऑपरेशन प्लेटफॉर्म स्काईडेक


नई दिल्ली: जियो प्लेटफॉर्म्स लिमिटेड (Jio Platforms) की सब्सिडियरी और भारत में ड्रोन बनाने वाली कंपनी (Drone Manufacturer) एस्टेरिया एयरोस्पेस (Asteria Aerospace) ने एंड-टू-एंड ड्रोन ऑपरेशन प्लेटफॉर्म लॉन्च किया है। इस प्लेटफॉर्म का नाम स्काईडेक (SkyDeck) है। यह एक क्लाउड-बेस्ड सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म है जो कृषि, सर्वेक्षण, निगरानी, औद्योगिक निरीक्षण व सुरक्षा जैसे क्षेत्रों के लिए एंड-टू-एंड ड्रोन सॉल्यूशंस मुहैया कराता है। स्काईडेक दरअसल एक सेंट्रलाइज्ड मैनेजमेंट सिस्टम है, जो ड्रोन की उड़ानों के विभिन्न आयामों और उनसे जुड़े डेटा को दर्ज करता है। साथ ही यह प्लेटफॉर्म विशेष रूप से विकसित किये गए एक डेशबोर्ड पर इस डेटा को प्रदर्शित करता है। ड्रोन डेटा की प्रोसेसिंग, डेटा के विजुअलाइजेशन और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से डेटा के विशलेषण की सुविधा भी इस प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध है। इसके अलावा ड्रोन की उड़ानों को शेड्यूल करने से लेकर ड्रोन बेड़े के प्रबंधन का काम भी इस सॉफ्टवेयर से किया जा सकता है।

ड्रोन की मांग में हुई है वृद्धि
एस्टेरिया एयरोस्पेस के सह-संस्थापक और निदेशक नील मेहता ने कहा, ‘ड्रोन संचालन के लिए नियमों को सरल बनाने और सरकार द्वारा ड्रोन सेक्टर को बढ़ावा देने से इसकी मांग में वृद्धि हुई है। एस्टेरिया पहले से ही भारत में अग्रणी ड्रोन निर्माताओं में से एक है। स्काईडेक के लॉन्च के साथ ही हम हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर और संचालन सॉल्यूशंस जैसी तमाम सुविधाएं, एक इंटीग्रेटेड प्लेटफॉर्म के जरिए मुहैया करा रहे हैं।

कृषि क्षेत्र में भी बड़े बदलाव ला सकता है स्काईडेक

स्काईडेक ड्रोन के उपयोग को सरल बनाने, उड़ान संबंधित डेटा दर्ज करने और एकत्रित डिजिटल डेटा को बिजनेस आइडिया में बदलने में मदद करता है।’ स्काईडेक का एंड टू एंड सॉल्युशन कृषि क्षेत्र में भी बड़े बदलाव ला सकता है। इसका उपयोग फसल के लक्षणों को सटीक रूप से मापने, कीड़े, खाद, पानी आदि की निगरानी करने के लिए किया जा सकता है। निर्माण और खनन उद्योगों में स्काईडेक द्वारा ड्रोन-बेस्ट डेटा का उपयोग सटीक इन्वेंट्री रिकॉर्ड बनाए रखने के लिए और साइट सर्वेक्षण करने के लिए किया जा सकता है।
navbharat times

Russian Suicide Drone:आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के सहारे टारगेट पर सटीक हमला, क्यों चर्चा में है रूस का किलर ड्रोन
सरकारी योजनाओं के कार्यान्वयन में मिलेगी मदद
तेल व गैस, दूरसंचार और बिजली जैसे महत्वपूर्ण बुनियादी ढांचा क्षेत्रों में स्काईडेक रखरखाव, खतरों की पहचान करने और बदलावों को रिकॉर्ड करने के लिए उपयोग हो सकता है। साथ ही संपत्तियों का डिजिटलीकरण और निरीक्षण करने के लिए ड्रोन का उपयोग हो सकता है। स्काईडेक विभिन्न सरकारी योजनाओं और कार्यक्रमों जैसे स्वमित्व योजना, स्मार्ट सिटीज, एग्रीस्टैक और अन्य विकास परियोजनाओं में ड्रोन के बेड़े के सफल कार्यान्वयन में भी मदद कर सकता है।

Bihar Day 2022: 110 साल का हुआ बिहार, पटना के आसमान में 500 ड्रोन ने मचाया धमाल… दिखाई इतिहास से विकास की गाथा



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: