सेना में तैनाती से महिलाएं नहीं डरती
December 18, 2018 • awazehindtimes@gmail.com

सेना में तैनाती से महिलाएं नहीं डरती
-ललित गर्ग-

     रूढ़िवादी एवं जड़तावादी को चीरते हुए भारत में एक क्रांतिकारी कदम के तहत सेना में बाॅर्डर पर महिलाओं की तैनाती हो सकती है। घर की सुरक्षा एवं संरक्षण में प्रभावी भूमिका निभाने वाली महिलाएं अब देश की सुरक्षा में अहम भूमिका निभायेगी। आर्मी चीफ जनल विपिन रावत ने महिलाओं को बाॅर्डर पर तैनात के प्रश्न पर कहा कि अगर महिलाएं सीमा पर जाने को तैयार हैं, वहां काम करना चाहती हैं, तो मैं उन्हें भेज दूंगा। एक नई भूमिका से नारी अपनी अस्मिता को भान करायेगी। उनकी क्षमता एवं त्याग ललकारने की नहीं, बल्कि आजमाने की जरूरत है। युगों से आत्मविस्मृत नारी को अपनी अस्मिता का भान कराने की दृष्टि से इस तरह के संवैधानिक प्रावधानों एवं साहसिक कदमों से न केवल पुरुष मानसिकता को बदलने में सहायता मिलेगी बल्कि राष्ट्र के लिये कुछ अनूठा एवं विलक्षण करने की दृष्टि से उनका योगदान सामने आयेगा। सेना में बाॅर्डर पर महिलाओं की तैनाती को लेकर समस्याएं हैं। विशेषतः बच्चों को लेकर उनकी विशेष जिम्मेदारियां इसमें बाधक बनती है। दूसरी बड़ी बाधा है कि बाॅर्डर से ताबूत यानी शहीदों के शव भी आते हैं। वह जानती है कि अगर वह नौकरी करने जाएगी, तो खुद उसका काम बढ़ेगा, क्योंकि मायके या ससुराल से नौकरी की इजाजत मिलना ही अपने आप में एक जंग है। लेकिन भारत की महिलाएं ऐसी जंग सदियों से लड़ती आयी है। सेना में महिलाओं की तैनाती के ताजा परिदृश्यों में नारी की अस्मिता एवं अस्तित्व को एक नयी पहचान मिलेगी। अब महिला समाज सेना में राष्ट्र की सुरक्षा के लिये अपने आपको प्रस्तुत करते हुए बलिदान को तत्पर होगी। इस निर्णय से महिलाओं में आत्मविश्वास जागेगा। अगर इस तरह का निर्णय होता है तो महिलाएं जान देने से डरने वाली नहीं है।


    कुपोषण की शिकार महिलाएं रोजाना न जाने कितनी तादाद में बच्चा पैदा करते हुए मारी जाती हैं। लेकिन क्या इन वजहों से लड़कियों ने, महिलाओं ने अपने यहां किसी भी तरह से हार मानी? कभी भी उन्होंने नहीं कहा कि हमें बस घर में बैठना है, बच्चे पालने हैं। अपनी जिंदगी को बेहतर बनाने और अपने ढंग से जीने के लिए लड़कियां हर दौर में बगावत करती आई हैं, अपने परिवार से, माता-पिता से, समाज से ताकि इसी समाज में उसे इज्जत की नजर से देखा जाए, पुरुषों के बराबर समझा जाए। किसी तरह माता-पिता ने पढ़ाई पूरी करवा दी, तो काॅलेज या नौकरी पर जाने के दौरान घूरती, छेड़ती आंखों से जंग करती, कंपटीशन की दुनिया में बराबरी के लिए होड़ करती महिलाएं, घर, बच्चों और आॅफिस के काम में बैलेंस बनाने के लिए जद्दोजेहद करती महिलाओं में आपने ऐसे कौन सी महिला देख ली, जो डरपोक हो? जो ताबूत में जाने से घबराती हो। जहां तक बच्चों को बाॅर्डर में ना ले जा पाने की बात है, तो इस क्षेत्र में रुचि रखने वाले हर शख्स को इस बात का ज्ञान जरूर होगा।


    जड़ जीवन से नारी को मुक्ति दिलाने की दिशा में सेना में उसकी तैनाती एवं योगदान एक मील का पत्थर साबित होगा। इस तरह के निर्णय होने से वे खुश होगी। यह महज शुरुआत होगी। उन्हें अभी लंबी दूरी तय करनी है। चाहे घर चलाना हो या राष्ट्र। चाहे नौकरी करना हो या लोगों से काम लेना। चाहे पत्रकारिता हो, चाहे वकालत हो, चाहे व्यापार हो, चाहे डाॅक्टरी का पेशा, चाहे इंजीनियरिंग हो या कोई भी तकनीकी क्षेत्र- महिलाओं ने सफलता के कीर्तिमान स्थापित किये हैं। लेकिन महिलाओं की तरफ से गारंटी है कि देश सेवा के इस मौके की राह महिलाओं के लिए खोलकर तो देखिए, वे आपको निराश नहीं करेंगी। देश के लिए सीने पर गोली खाना और झंडे में लिपट कर ताबूत में अपने घर, मायके या बच्चों के पास लौटना उस मौत से लाख गुना बेहतर है, जो सिर्फ दहेज के लालच, बलात्कार, घरेलू हिंसा जैसी घिनौनी वजहों से होती हैं। विकास तभी संभव हो सकता है जब मूल सुदृढ़ हो, टिकेंगे वे ही, जिनकी जड़े मजबूत हो। पत्ते, पुष्प और फल वृक्ष के परिणाम हैं, मूल नहीं। ये वृक्ष की शोभा बढ़ाने वाले हैं, आधार नहीं। महिला समाज के लिये, बाहरी विकास यानी शिक्षा, कैरियर, वाहन चलाना, सेना में तैनाती, यश-प्रतिष्ठा ये वृक्ष के पत्ते, फूल, फल हैं। किन्तु वृक्ष की जड़े हैं भीतर का विकास। अब महिलाओं को संकल्प की शक्ति को जगाना है। लक्ष्य की पूर्ति के लिये चरैवेति-चरैवेति मंत्र का अजपा जाप करते हुए उन्हें कदम-कदम आगे बढ़ना है। महिलाओं के विकास का सार्थक लक्ष्य यही हो सकता है कि विकास बाहर भी हो और भीतर भी।


     इसी सोच को विकसित करके महिलाएं सदियों से चले आ रहे पुरुषों के पारंपरिक नजरिया को बदल सकती है, जहां पुरुष को स्त्री के मालिक के रूप में ही देखने का नजरिया रहा है। जबकि सच यह है कि पुरुष ने नारी को आधार बनाकर ही उच्च सोपानों को छुआ है। पुरुष की मानसिकता महिलाओं की प्रगति को कुछ समय के लिये बाधित कर सकती है लेकिन रोक नहीं पायेंगी क्योंकि परिवार, समाज और राष्ट्र का हित नारी प्रगति में ही निहित है। नारी की समता, साहस और क्षमता से न केवल परिवार में संतुलन रहता है बल्कि समाज एवं राष्ट्र को संरक्षण भी मिलता है। नारी समाज में अभिनव स्फूर्ति एवं अटूट आत्मविश्वास भरने के लिये पुरुषों की मानसिकता बदलना जरूरी है। जहां केवल पुरुष की मर्जी चलती हो, स्त्री की मर्जी कोई मायने न रखती हो, वहां स्त्री पुरुष की चल संपत्ति या वस्तु जैसी हो जाती है, उसके प्रति भेदभाव का नजरिया पनपने लगता है, उसे कमजोर समझा जाने लगता है, वस्तुतः एक महिला प्रकृति से तो कमजोर होती ही है, उसे शक्ति से भी इतना कमजोर बना दिया जाता है कि वह अपनी मानसिक सोच को भी उसी के अनुरूप ढाल लेती है। उम्मीद की जानी चाहिए कि सेना में महिलाओं की तैनाती की सोच एवं उसकी जागरूकता नारी पर सदियों से चले आ रहे दुर्भाग्य को मिटाकर उसे गौरव के साथ जीने का धरातल देंगी। इसी से नारी के जीवन में उजाला होगा और वह सदियों से उस पर लादी जा रही हीनता एवं दुर्बलता की ग्रंथियों से मुक्त हो सकेगी।