Thursday, August 11, 2022
spot_img
HomeHealth NewsHerb tips: बवासीर से UTI तक 10 रोगों का इलाज है ये...

Herb tips: बवासीर से UTI तक 10 रोगों का इलाज है ये बैंगनी फूल, Ayurveda डॉक्टर से जानिए कैसे करें यूज – according to expert passion flower or krishna kamal is best herb for insomnia menopause uti and piles


​लेडीज प्रॉब्लम का बेस्ट सॉल्यूशन

navbharat times

आयुर्वेद विशेषज्ञ बताती हैं कि कृष्ण कमल कई तरह की बीमारियों में आपको राहत पहुंचाने का काम कर सकता है। इसे आप बाहरी अथवा आंतरिक बीमारियों में इस्तेमाल कर सकते हैं। ऐसे में यह महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होने वाले दर्द, थकान, तनाव को कम करने के साथ ही पीएमएस की समस्या को खत्म करने का काम करता है। साथ ही मेनोपॉज की परेशानी में भी लाभ पहुंचता है। इसके अलावा महिलाओं में यूटीआई की समस्या सबसे ज्यादा होती है। इसमे भी पैशन फ्लावर मददगार साबित हो सकता है।

​दिमाग को रखता है शांत

navbharat times

आयुर्वेद विशेषज्ञ ने पैशनफ्लावर को दिमाग को शांत करने वाला औषधीय बताया है। दरअसल, यह फूल आपके मस्तिष्क में गामा-एमिनोब्यूट्रिक एसिड (जीएबीए) के स्तर को बढ़ा देता है। जिससे आपको आराम करने और बेहतर नींद लेने में मदद मिल सकती है। ऐसे में इसे अनिद्रा, अवसाद, तनाव, सिर दर्द में फायदेमंद माना जाता है।

​इन बीमारियों को भी करता है कंट्रोल

navbharat times

डॉक्टर दीक्षा के अनुसार पैशनफ्लावर केवल महिलाओं की समस्या और दिमाग को शांत करने के साथ हाई ब्लड प्रेशर में रेस्टलेस लेग सिंड्रोम, अटेंशन डेफिसिट डिसऑर्डर और इरिटेबल बाउल सिंड्रोम के लिए फायदेमंद होता है।

​सेवन के लिए कैसे करें उपयोग

navbharat times

आयुर्वेद विशेषज्ञ बताती हैं कि कृष्ण कमल का उपयोग चाय के रूप में किया जा सकता है। जो मानसिक चिंता और थकावट से अनिद्रा की परेशानी, अत्यधिक तनाव, अवसाद, हाई ब्लड प्रेशर, डायबिटीज, आदि में फायदेमंद साबित होता है।

कैसे करें इस्तेमाल

चाय की तैयार करने के लिए 1 टी-स्पून सूखे पैशन फ्लावर को एक कप पानी में उबालकर 5-10 मिनट के लिए भिगो दें। इसे छानकर गुनगुने ड्रिंक का सेवन करें। इसे दिन में 2 – 3 बार लिया जा सकता है। सोने से एक घंटे पहले इसे पीना सेहतमंद माना जाता है।

बवासीर और UTI में कैसे करें यूज

-uti-

आयुर्वेद विशेषज्ञ बताती हैं कि पैशनफ्लावर को बाहरी बीमारियों जैसे बवासीर, यूटीआई, पेशाब में जलन, फिशर के उपचार के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

कैसे करें इस्तेमाल

बाहरी उपचार के लिए 20 ग्राम औषधीय फूल को 200 मिलीलीटर उबलते पानी में डालें। लगभग 5 मिनट के बाद इसे छान लें और ठंडा होने पर इससे प्रभावित जगह को धो लें।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments