Tuesday, June 28, 2022
HomeNewsfood delivery boy killed in delhi: Food Delivery Boy Killed In Delhi,...

food delivery boy killed in delhi: Food Delivery Boy Killed In Delhi, तिलक नगर में सिगरेट पीने पर कर दी डिलिवरी बॉय की हत्या, एक गिरफ्तार


तिलक नगरः तिलक नगर के कृष्णा पार्क में मंगलवार रात सागर सिंह नाम के युवक की धारदार हथियार से हत्या के मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। आरोपी की पहचान चंदर विहार इलाके में रहने वाले हर्षदीप (22) के रूप में हुई है। पुलिस ने हत्या में इस्तेमाल कृपाण भी बरामद कर ली है। आरोपी से हुई पूछताछ के बाद पुलिस का दावा है कि सागर सिगरेट पी रहा था, जिसका धुआं आरोपियों पर आ गया। इसको लेकर हुई कहासुनी में सागर की हत्या की गई थी। पुलिस का कहना है कि हत्या में शामिल एक और आरोपी की तलाश में पुलिस टीमें छापेमारी कर रही हैं।

पुलिस के मुताबिक, सागर सिंह परिवार के साथ किराए के मकान में कृष्णापार्क, गली नंबर 9 में रहते थे। परिवार में पत्नी सतवंत कौर उर्फ कोमल और 7 साल का बेटा देव है। सागर डिलिवरी बॉय का काम करते थे। मंगलवार की रात पुलिस को 12:30 बजे घटना की कॉल मिली थी। जांच में पता चला कि सागर एक आर्डर पर खाना लेने के लिए रेस्टोरेंट पर आए थे। वहीं पास में दो निहंग खड़े थे। इस बीच सागर सिगरेट पीने लगे। इसे लेकर वहां खड़े दोनों निहंगों ने उन्हें टोका। इस बात पर दोनों की बीच बहस हो गई। मामला इतना बढ़ गया कि उन दोनों निहंगों में से एक ने कृपाण निकालकर सागर के सीने पर वार कर दिया। कृपाण लगने के बाद जब सागर भागने की कोशिश करने लगे तो उनके सिर और चेहरे पर पत्थर मारा। काफी देर तक सागर वहीं पड़े तड़पते रहे। इस बीच वहां से जा रहे एक डिलिवरी बॉय ने सागर को जख्मी देखकर एंबुलेंस को कॉल की और अस्पताल पहुंचाया। लेकिन तब तक सागर की मौत हो चुकी थी।

TILAKNAGAR-Murder

सागर की पत्नी कोमल (बीच में) इनसेट में सागर

कोई मदद को आगे नहीं बढ़ा, दूसरे डिलवरी एजेंट ने की मदद
TOI के घटनास्थल पर पहुंचने पर स्थानीय लोगों ने बताया कि दोनों निहंग रोल खा रहे थे, तभी उनका सिगरेट को लेकर पीड़ित से झगड़ा हुआ। लोगों ने यह भी बताया कि सागर करीब 15-20 मिनट तक सड़क पर खून से लथपथ हालत में पड़े रहे, लेकिन कोई उनकी मदद के लिए आगे नहीं बढ़ा। उसी दौरान रोल की दुकान पर पिकअप के लिए एक दूसरे डिलीवरी एजेंट ने सागर को जमीन पर पड़े देखा और उनकी मदद की। बता दें कि मदद करने वाले डिलीवरी एजेंटा का नाम आसीफ है जो सागर को काफी समय से जानते थे। उन्होंने बताया कि मैं वहां अपना ऑर्डर लेने गया था जब मैंने उसे खून से लथपथ हालत में जमीन पर पड़ा देखा। कुछ ही दूरी पर एक छोटा सा हॉस्पिटल था लेकिन कोई उसे वहां तक लेकर नहीं गया। कुछ लोग पुलिस को कॉल करने की कोशिश कर रहे थे लेकिन किसी कारणवश फोन नहीं लगा। उस बीच, सागर का फोन बार-बार रिंग कर रहा था। फोन फूड ऑर्डर करने वाले कस्टमर का था इसलिए मैंने फोन रिसीव कर उन्हें हादसे के बारे में बताया और रिक्वेस्ट की कि वह पुलिस को सूचना दे दें। उनके कॉल करने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची।

TILAKNAGAR11

सागर (फाइल फोटो)

सीसीटीवी कैमरे की मदद से हमलावरों की पहचान
पुलिस का कहना है कि हत्या का केस दर्ज कर घटनास्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाली, चश्मदीदों से पूछताछ की, रेस्टोरेंट के स्टाफ से भी जानकारी हासिल की। फुटेज में एक बाइक पर जाते हुए हमलावर दिखाई दिए। पुलिस सूत्रों के मुताबिक बाइक नंबर के आधार पर पुलिस आरोपी के पते तक जा पहुंची। जहां से हर्षदीप को गिरफ्तार कर लिया, जबकि दूसरा फरार है। आरोपी हर्षदीप वेल्डर का काम करता है। पूछताछ में पहले तो उसने पुलिस को खूब गुमराह किया लेकिन बाद में उसने गुनाह कबूल कर लिया।

TILAKNAGAR222

आरोपी हर्षदीप पुलिस की गिरफ्त में

कोमल की जिंदगी में फिर छाया अंधेरा
सागर के जाने से कोमल की जिंदगी में फिर से अंधेरा छा गया है। रिश्तेदारों के मुताबिक, सागर की कोमल से दो साल पहले फरवरी 2020 में शादी हुई थी। दरअसल, शादी से पहले सागर और कोमल दोनों की जिंदगी में वीरानी छाई हुई थी। रिश्तेदारों के मुताबिक, सागर जब 9 साल के रहे होंगे, तभी उनके माता पिता का देहांत हो गया था। उनकी परवरिश नाना नानी ने की थी। बुजुर्ग नाना नानी की मौत के बाद सागर प्राइवेट जॉब करके अकेले ही जी रहे थे। सागर की जिंदगी में कोमल का आना भी संयोग है। कोमल जो कि पहले से शादीशुदा हैं और उनका एक बेटा है। पति के टॉर्चर की वजह से कोमल का अलगाव हो गया। इसके बाद उनके रिश्तेदारों ने सागर से कोमल की दूसरी शादी करा दी। रिश्तेदार के मुताबिक, सागर इतने अच्छे स्वभाव के थे कि उन्होंने कोमल और उसके सात साल के बेटे देवदूत को अपना लिया। हाल ही में सागर ने पास के ही अच्छे स्कूल में बेटे देवदूत का एडमिशन कराया था। सागर के परिजनों का कहना है कि अगर समय रहते अस्पताल पहुंचा दिया जाता तो शायद उनकी जान बच सकती थी।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments