delhi school reopen news: नर्सरी से 8वीं तक के स्कूल खुले, सरकारी स्कूलों की अटेंडेंस रही ऊपर, प्राइवेट में पहुंचे कम बच्चे, first day of delhi school reopen


विशेष संवाददाता, नई दिल्ली: क्लास 6 की स्टूडेंट कीर्ति के लिए करीब दो साल बाद स्कूल आना किसी रोमांच से कम नहीं था। वह क्लास 4 में थीं, जब कोविड आया और तब से उनका छोटा सा घर ही क्लास और प्लेग्राउंड भी था। ईस्ट दिल्ली के एक प्राइवेट स्कूल की स्टूडेंट कीर्ति कहती हैं कि घर में पहले तो अच्छा लगा, मगर बाद में वह बोर होने लगीं। अब स्कूल खुला है, तो बहुत मजा आ रहा है। इतने टाइम बाद अपने दोस्तों की शक्ल देखकर अच्छा लग रहा है। उन्होंने कहा कि स्कूल की मस्ती को बहुत मिस किया। कीर्ति की तरह सोमवार को कई बच्चे स्कूल पहुंचकर खुश दिखे। क्लासरूम से लेकर प्लेग्राउंड हर जगह उनका जोश दिख रहा था। नवंबर के छोटे से पीरियड को छोड़ दें, तो दिल्ली में नर्सरी से लेकर क्लास 8 के सरकारी और प्राइवेट स्कूल 11 महीने बाद खुले। यह मौका स्टूडेंट्स के लिए ही नहीं, बल्कि पैरंट्स और टीचर्स के लिए भी स्पेशल था।

navbharat times
Delhi School Exam: हाइब्रिड मोड में स्कूल तो ऑफलाइन एग्जाम के लिए दबाव क्यों, स्कूलों के फैसले से पैरेंट्स नाराज़


गुब्बारों-फूलों से स्वागत
स्कूलों में सोमवार को बच्चों को खास वेलकम मिला। कहीं गुब्बारे सजे, कहीं चॉकलेट मिली तो कहीं म्यूजिक-डांस से उनका स्वागत हुआ। दिल्ली के सरकारी स्कूलों में एक बार फिर अटेंडेंस ज्यादा रही। कई स्कूलों में 50-60% बच्चे पहुंचे। रोहिणी सेक्टर-8 के राजकीय सर्वोदय को-एड स्कूल के प्रिंसिपल अवधेष कुमार झा ने बताया कि उनके यहां अटेंडेंस 50% रहीं। 500-600 बच्चे स्कूल पहुंचे, जिसकी हमें उम्मीद नहीं थी। छोटे बच्चों को हमने गुब्बारे देकर और बड़े बच्चों को गेंदे का फूल देकर स्वागत किया। वे बहुत जोश में थे, खुश थे।

navbharat timesNoida School Reopen: नोएडा में 14 फरवरी से खुल रहे स्कूल, स्कूलों को लेनी होगी बच्‍चों के ट्रांसपोर्ट की जिम्मेदारी
कुछ स्कूलों में बसें शुरू
प्राइवेट स्कूलों में पहले दिन अटेंडेंस 20 से 50% के बीच रही। डीपीएस वसंत कुंज की प्रिंसिपल बिंदू सहगल ने बताया कि पहले दिन हमें छोटे बच्चों से अच्छा रिस्पॉन्स मिला है। हालांकि, अभी कई पैरंट्स से लिखित इजाजत नहीं मिली। स्टूडेंट्स की संख्या 30% है, मगर यह जल्द ही बढ़ेगी। हम दो-तीन दिन में ट्रांसपोर्ट सर्विस भी शुरू कर रहे हैं, फीस पहले जितनी ही रहेगी। विद्या बाल भवन सीनियर सेकंडरी स्कूल मयूर विहार के प्रिंसिपल सतवीर शर्मा के अनुसार हमें करीब 15% पैरंट्स से लिखित मंजूरी मिली है और पहले दिन 12-15% स्कूल पहुंचे। अब हम ट्रांसपोर्ट शुरू करने की कोशिश कर रहे हैं, मगर हमारा ट्रांसपोर्टर बच्चों की संख्या बढ़ने का इंतजार कर रहा है।

navbharat timesDelhi School News : दिल्‍ली में कल खुल रहे नर्सरी से क्‍लास 8 तक के स्‍कूल, पहले दो हफ्तों का प्‍लान समझ‍िए
कुछ स्कूलों ने 50% बच्चों को बुलाया

मयूर विहार फेज-1 के एएसएन सीनियर सेकंडरी स्कूल की प्रिंसिपल स्वर्णिका लुथरा ने बताया कि अभी हमें 30% से ऊपर स्टूडेंट्स के लिए पैरंट्स से लिखित इजाजत मिली है। पैरंट्स कोविड की वजह से कुछ डरे हुए हैं, क्योंकि इन बच्चों को वैक्सीन नहीं लगी है। हमने ट्रांसपोर्ट भी शुरू कर दिया है और इस महीने हमने इसे फ्री रखा है, ताकि बच्चे स्कूल आएं। संख्या बढ़ेगी तो हम छोटे बच्चों के लिए एक एक दिन छोड़कर क्लास रखेंगे। द्वारका के एन. के. बागडोरिया स्कूल की प्रिंसिपल राजी एन कुमार बताती हैं कि करीब 60% पैरंट्स ने कंसेंट फॉर्म साइन किए हैं। हमने कोविड प्रोटोकॉल को देखते हुए 50% बच्चे बुलाए थे। दिन में हमने ट्रांसपोर्ट भी शुरू कर दिया है। धीरे धीरे पैरंट्स कोविड के डर से निकलेंगे। एआर कैपिटल ग्रुप ऑफ स्कूल हेड लक्ष्य छाबड़िया ने बताया, बच्चे 11 महीने बाद लौटे हैं, तो हमने उनके लिए एक महीने का ब्रिज कोर्स रखा है, ताकि जो एजुकेशन अधूरी रह गई है, उसे पूरा किया जाए। हम रोचक एक्टिविटीज से उन्हें सिखाने की कोशिश करेंगे।

navbharat times

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: