delhi redevelopment project: कबाड़ में फेंकी बोतलों से बनाया क्लीनिंग सेंटर, 16,000 से ज्यादा बोतल का इस्तेमाल किया गया – garbage center made from more than 16 thousand used bottles in dwarka


प्रस, नई दिल्लीः द्वारका सेक्टर-29 में कबाड़ से दिल्ली का पहला स्वच्छता केंद्र बनाया गया है। कबाड़ से बने इस केंद्र को बनाने में एमसीडी ने 16,000 से अधिक यूज्ड बोतलों का इस्तेमाल किया है। रेजिडेंशियल इलाकों से सूखा कूड़ा एकत्रित कर यहां लाया जाएगा और उसकी छंटाई की जाएगी। हर महीने करीब 240-300 टन तक सूखे कूड़े की छंटाई होगी।

navbharat times
Dengue cases in Delhi: 2 महीने से कड़ाके की ठंड भी नहीं रोक पाई डेंगू का कहर, मच्छरों का तांडव जारी

एमसीडी अफसरों का कहना है कि एमसीडी में कूड़ा उठाने के लिए पहले भी ढलाव घर बने थे। लेकिन, उन ढलावों को तोड़ कर एमसीडी वहां अंडरग्राउंड कूड़ा रखने के लिए मटीरियल रिकवरी फैसिलिटी सेंटर बना रही है। द्वारका सेक्टर-29 में जिस जगह स्वच्छता केंद्र बनाया गया है, वहां मटीरियल रिकवरी फैसिलिटी सेंटर के अलावा स्वच्छता केंद्र भी बनाया गया है। यहां सूखे कूड़े की छंटाई की जाएगी। स्वच्छता केंद्र को यूज्ड बोतलों से तैयार किया गया है। इसमें करीब 16,000 से अधिक यूज्ड बोतल का इस्तेमाल कर 16 कलाकारों ने इसे 32 दिनों में तैयार किया है।

navbharat timesDelhi News: ‘यह कानून की हार होगी’, चांदनी चौक अतिक्रमण पर HC की टिप्पणी- हार मानने से पैदा होगी अराजकता
अफसरों का कहना है कि ऐसे स्वच्छता केंद्र बनाने का मकसद यह है कि यहां साफ-सफाई बेहतर हो और लोगों के लिए यह आकर्षण का केंद्र बने। पहले जो ढलाव घर थे, उन ढलावों के आसपास से भी कोई गुजरने के लिए तैयार नहीं होता था।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: