Sunday, August 14, 2022
spot_img
HomeNewsDelhi Monkeypox News: एक्सपर्ट बोले, संक्रमित से जानकारी लेकर हिमाचल में सोर्स...

Delhi Monkeypox News: एक्सपर्ट बोले, संक्रमित से जानकारी लेकर हिमाचल में सोर्स को ट्रेस करने की जरूरत क्योंकि… – delhi monkeypox news expert suggest untraced source can cause more infection in people


विशेष संवाददाता, नई दिल्लीः हिमाचल से दिल्ली वापस लौटने के बाद एक युवक में मंकीपॉक्स का संक्रमण मिला है। इसको लेकर एक्सपर्ट बड़ा सवाल उठा रहे हैं। उनका कहना है कि भले ही अधिकारिक रूप से देश में मंकीपॉक्स के 4 मामले ही सामने आए हो, लेकिन जब दिल्ली का युवक बिना कोई विदेश दौरे के संक्रमण का शिकार हो गया है, तो कहीं न कहीं संक्रमण का कोई न कोई सोर्स है। एक्सपर्ट का यह भी कहना है कि हो सकता है कि सोर्स एक हो या फिर इससे ज्यादा भी हो सकते हैं, जो बड़ी चिंता की वजह हो सकती है।

हेल्थ एक्सपर्ट डॉक्टर अंशुमान कुमार ने कहा कि बिना सोर्स के संक्रमण नहीं हो सकता है। अगर दिल्ली के युवक को हिमाचल से लौटने के बाद मंकीपॉक्स हुआ है, तो कहीं न कहीं वहां पर कोई मंकीपॉक्स से संक्रमित है, जो घूम रहा है। हो सकता है कि ऐसे एक दो नहीं, इससे भी ज्यादा हों। यह एक बड़ी चुनौती है, क्योंकि संक्रमण फैलाने वाले सोर्स को नहीं ट्रेस किया गया, तो उसकी वजह से यह कम्युनिटी में फैल सकता है। उन्होंने कहा कि इसे ट्रेस करना होगा। मरीज से बात करनी चाहिए और उसकी याददाश्त के अनुसार उन सभी लोगों का ट्रेस करना चाहिए, जिन-जिन से वह पिछले एक हफ्ते में मिला है। इसके अलावा उसकी मोबाइल लोकेशन के आधार पर सोर्स को ट्रेस करना चाहिए। उन इलाकों के अस्पताल और क्लीनिक में जाकर पता करना चाहिए, क्योंकि अभी वहां के डॉक्टरों को मंकीपॉक्स के बारे में पता नहीं है। अगर कोई चेचक, फीवर आदि की वजह से इलाज के लिए आया है, तो इसकी सूचना वहां से मिल सकती है।

navbharat times

Monkeypox Virus : भारत समेत 75 देशों में फैल गया मंकीपॉक्स, बंदर से कनेक्शन पता है? बचने का तरीका भी जान लीजिए
तीन तरीकों से फैलता है संक्रमण
जहां तक इस संक्रमण के फैलने की बात है, तो इसके तीन तरीके हैं। पहला जूनेटिक है, इसमें जंगली जानवर के जरिए यह इंसान तक आता है। इसके बाद यह इंसान से इंसान में फैलने लगता है। इंसान में इंसान से यह उस स्थिति में फैलता है, जब फोड़ा बनता है और उसमें लिक्विड होता है। तब उसमें वायरस रहता है। जो संक्रमित मरीज की स्किन के संपर्क में आएगा, उसमें यह संक्रमण पहुंच सकता है। डॉक्टर ने कहा कि संक्रमित मरीज जिसे फोड़ा हो गया है, अगर वह कहीं बैठेगा तो वहां पर उसका लिक्विड गिर सकता है। बाद में जो वहां पर जाकर बैठेगा, उसे भी संक्रमण हो सकता है। घूमने फिरने वाले लोगों में इस प्रकार संक्रमण होने का खतरा रहता है।

navbharat timesक्या युवक ने होटल पार्टी में विदेशी एस्कॉर्ट के साथ किया था सेक्स ? दिल्ली में मंकीपॉक्स का मरीज नहीं दे रहा सही जानकारी
संक्रमण फैलने की तीसरी वजह सेक्सुअल ट्रांसमिशन है। इस वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड 5 से 21 दिन का है। संक्रमण होने के 5वें दिन फोड़ा बनता है। संक्रमण के तीसरे दिन तक मरीज में लक्षण नहीं रहते, लेकिन उसमें संक्रमण फैलाने की क्षमता आ जाती है। उस दौरान अगर संक्रमित महिला या पुरुष सेक्सुअल संबंध बनाते हैं, तो उनसे संक्रमण ट्रांसमिट हो सकता है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में मामला आने के बाद ऐसा लग रहा है कि अगले 21 दिनों में कई और मामले आ सकते हैं, जिनकी कोई ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होगी। यह कहीं न कहीं बड़ी चिंता की वजह है।

navbharat times



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments