Delhi MCD Election Update CM Arvind Kejriwal attacked BJP they are biggest party but afraid of AAP: MCD चुनाव में भाजपा जीत गई तो राजनीति छोड़ देंगे…. केजरीवाल बोले, क्या लोकसभा चुनाव भी टाल सकते हैं?


नई दिल्ली: राजधानी में MCD चुनाव टलने के संकेत पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने भाजपा पर हमला बोला है। उन्होंने आज विधानसभा के बाहर पत्रकारों से कहा कि अगर अभी एमसीडी चुनाव (MCD Election in Delhi) कराए गए और भाजपा जीत गई तो हम राजनीति छोड़ देंगे। उन्होंने कहा कि भाजपा का दिल्ली नगर निगम के चुनाव टालना शहीदों का अपमान है, जिन्होंने अंग्रेजों को देश से भगाकर जनतंत्र स्थापित करने के लिए कुर्बानियां दीं थीं। आज ये हार के डर से दिल्ली नगर निगम के चुनाव टाल रहे हैं, कल ये राज्यों और देश के चुनाव टाल देंगे।

navbharat times
Delhi MCD: दिल्ली में तीनों नगर निगम एक होंगे, केंद्रीय कैबिनेट की बैठक में फैसला

क्या लोकसभा चुनाव टाले जा सकते हैं?
केजरीवाल ने कहा कि भाजपा MCD के चुनाव टाल रही है, यह कहते हुए कि दिल्ली के तीनों निगम एक कर रहे हैं। क्या इस वजह से चुनाव टल सकते हैं? कल ये गुजरात हार रहे होंगे तो क्या ये कह कर टाल सकते हैं कि गुजरात और महाराष्ट्र को एक कर रहे हैं? क्या इसी तरह का कोई बहाना बना कर लोकसभा चुनाव टाले जा सकते हैं?

navbharat timesMCD Election: चुनाव से पहले ये कैसा स्टंट, कीचड़ में कूदे नेताजी.. दूध से नहाकर ‘नायक’ बन गए
आम आदमी पार्टी से घबरा गई सबसे बड़ी पार्टी…
केजरीवाल यहीं नहीं रुके। उन्होंने कहा, ‘भाजपा अपने आप को दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी कहती है। कमाल है। दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी एक छोटी सी आम आदमी पार्टी से घबराकर भाग गई? हिम्मत है तो MCD के चुनाव टाइम पर करके दिखाओ।’

केंद्रीय कैबिनेट ने दिल्ली के तीनों नगर निगमों के विलय संबंधी विधेयक को मंगलवार को मंजूरी दे दी। इस कदम से दिल्ली नगर निगम चुनावों से पहले शहर में भाजपा और AAP के बीच सत्ता का संघर्ष और तेज हो गया है। दिल्ली नगर निगम (संशोधन विधेयक) को संसद के मौजूदा बजट सत्र में सदन में पेश किए जाने की संभावना है। यह संशोधन दिल्ली के तीनों नगर निगमों का आपस में विलय करके उन्हें एक बनाएगा।

साल 2011 में दिल्ली में तीन नगर निगमों का गठन किया गया, तब से 2022 तक तीनों की सत्ता पर भाजपा का कब्जा है। वहीं, इससे पहले 2007 से 2012 तक भी नगर निगम में भाजपा सत्ता में थी। राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण इस फैसले को दिल्ली की सत्ता पर काबिज आम आदमी पार्टी ने नगर निकाय चुनावों में देरी करने का ‘तरीका’ बताया है। AAP का यह भी कहना है कि नगर निगमों के विलय से चुनाव में उसपर कोई असर नहीं पड़ेगा।



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: