Saturday, July 2, 2022
HomeCrimedelhi crime record: Crime News In Hindi, राजधानी में हत्या, लूट और...

delhi crime record: Crime News In Hindi, राजधानी में हत्या, लूट और छेड़खानी में बढ़ोतरी… रेप के मामले थोड़े घटे


नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस के तमाम प्रयासों के बावजूद दिल्ली में झपटमारी की वारदातें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। हाल यह है कि सड़कों और पार्कों में चहलकदमी करने वाले लोगों के साथ ही झपटमार गली-मोहल्लों तक में झपटमारी की वारदातें कर रहे हैं। सबसे अधिक मोबाइल फोन छीने जा रहे हैं। जबकि सोने की चेन या अन्य जो भी सामान झपटमारों को मिल जाए, वे सब छीनकर ले जा रहे हैं। इसके अलावा हत्या, लूट और महिलाओं से छेड़छाड़ के मामलों में भी बढ़ोतरी हुई है। लेकिन, बलात्कार के मामलों में मामूली गिरावट दर्ज की गई है।

दिल्ली पुलिस के आंकड़ों पर गौर किया जाए तो इस साल दिल्ली में 31 मई तक झपटमारी की 4,074 वारदात हुईं। यानी हर दिन दिल्ली में झपटमारी की करीब 27 वारदातें हुईं। जबकि पिछले पूरे साल दिल्ली में झपटमारी की 9,383 वारदातें हुई थी। यानी हर दिन करीब 26 लोग झपटमारी का शिकार बने थे, जो इस साल बढ़कर 27 लोगों के शिकार होने तक पहुंच गई। वैसे, दिल्ली पुलिस अधिकारियों का कहना है कि झपटमारी की वारदातें रोकने के लिए वह लगातार इस पर काम कर रही है। जेल-बेल रिलीज और इलाके के तमाम अपराधियों पर निगरानी रखने के अलावा सड़कों पर चुस्त पट्रोलिंग और बैरिकेडिंग कर इस तरह की वारदात होने से रोकने का प्रयास कर रही है। इस पर और भी सख्ती की जाएगी।

navbharat times

Road Accident Cases: इस साल दुर्घटनाओं में मारे गए 206 राहगीर, अतिक्रमण की वजह से सड़क पर चलने को मजबूर लोग
इसके अलावा दिल्ली में इस साल 31 मई तक बलात्कार के 838 मुकदमे दर्ज किए गए। यानी हर दिल्ली में रेप की 5 से अधिक वारदातें हुई। रेप के इन्हीं मामलों में पिछले पूरे साल 2,076 मामले दर्ज किए गए। आंकड़ों से पता लगता है कि पिछले साल के मुकाबले इस साल 31 मई तक रेप के जितने मामले दर्ज किए गए, इनमें मामूली कमी देखी गई। वहीं, महिलाओं से छेड़छाड़ के मामलों में बढ़ोतरी देखी गई। इस साल 31 मई तक छेड़छाड़ के 1,157 मामले दर्ज किए गए जबकि पिछले साल 12 महीनों में यह मामले 2,551 दर्ज हुए थे।

इसी तरह से इस साल मई तक दिल्ल्ली में हत्या की 215 वारदातें हुई। जबकि पिछले साल 1 जनवरी से 31 दिसंबर तक यह दिल्ली में 459 मर्डर हुए थे। मर्डर के इन मामलों में मामूली बढ़ोतरी देखी जा रही है। आंकड़ों में हत्या के प्रयास के मामलों में देखा जाए तो इस साल 31 मई तक 373 मामले दर्ज किए गए। जबकि पिछले पूरे साल यह 761 थे। इनमें भी मामूली बढ़ोतरी दर्ज हुई।

navbharat timesरिश्‍तों का हो रहा खून: क्‍या हमारे बच्‍चे ऐसा भी कर सकते हैं और मां-बाप ऐसे भी होते हैं?
दिल्ली पुलिस के आंकड़ों से यह भी पता लगा कि झपटमारी की दर्ज वारदातों को सुलझाने का प्रतिशत करीब 55 फीसदी रहा। यानी हर 100 वारदात में से 55 वारदात को दिल्ली पुलिस सुलझा भी रही है। जबकि बलात्कार के मामलों में 92 फीसदी मामले सुलझाए गए। इसी तरह से हत्या के दर्ज मामलों में 92 फीसदी से अधिक, हत्या के प्रयास में 97 फीसदी से अधिक और लूट में करीब 92 फीसदी मामलों को सुलझाया गया।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments