परीक्षा में सफलता कैसे मिल सकती है 
January 27, 2019 • एडिटर अवाज़ेहिंद टाइम्स

कैरियर बनाने व नौकरियों के लिए युवा प्रतियोगी परीक्षाओं को लेकर काफी सजग हो गए हैं। नौकरी की तलाश में कोई लंबे समय से प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में लगे हुए हैं, तो कई व्यापम और लोक सेवा आयोग द्वारा विभिन्न पदों की भर्ती के लिए तैयारी में लगे हुए है। परीक्षाओं के इस जाल में कुछ तो कोचिंग, तो कोई कुछ स्वयं ही तैयारी कर रहे हैं। ऐसे में सही दिशा में तैयारी नहीं होने से की गई मेहनत पर पानी फेर सकता है। पिछले दो से तीन माह में पीएससी और व्यापम द्वारा कई परीक्षा ली गई। जिसमें आरआई, पटवारी, लोक सेवा आयोग सहित विभिन्न विभागों द्वारा तृतीय व चतुर्थ वर्ग के विभिन्न पदों पर चयन परीक्षाएं ली गई। एक के बाद नए भर्ती से जहां नौकरी की तलाश में लगे युवाओं में नौकरी की आस जगी है, वहीं पर्याप्त तैयारी न होने से मायूस भी होना पड़ा है। ऐसे में परीक्षा की तैयारियों में कुछ विशेष बातों को ध्यान में रखकर पढ़ाई करने पर परीक्षाओं को आसान किया जा सकता है। मनोवैज्ञानिकों का कहना है कि आप पढाई कितने भी घंटे करें पर हर आधा घंटे में ब्रेक जरूर लें।

प्रतियोगी परीक्षा में दे इन विषयों पर अधिक ध्यान : प्रतियोगी परीक्षाओं में सबसे अधिक समस्या यह रहती है कि कहा से क्या पड़े। ऐसे में जरूरी है की समान्य ज्ञान के लिए एनसीआरटी की किताबों का सहारा लिया जा सकता है। करंट अफेयर्स के लिए मानसिक पत्रिका, राष्ट्रीय अखबार के साथ डीपीआरसौजी के साइट में आज के समाचार का कालम का पड़ने से शासकीय कामों की जानकारी मिल सकती है। साथ ही 10 व 12 व स्तर के सामान्य अंग्रेजी और हिंदी व्याकरण के पुस्तक अध्ययन करने से भाषा के साथ व्याकरण की अच्छी जानकारी होती है। वहीं तर्क शक्ति, सामान्य कंप्यूटर, मॉडल टेस्ट पेपर के अलावा पुराने प्रश्न पत्रों से अच्छी तैयारी की जा सकती है।

परीक्षा को ध्यान में रखते हुए बनाए कोड : हमेशा की तरह परीक्षा के समय आपके पास बहुत सारा समय नहीं होता है। इसलिए ध्यान रखे और जितने भी विषय के आपको नोट्स तैयार करने हो उनके महत्वपूर्ण पिक के नाम के पहले अक्षर को इस्तेमाल करते हुए एक स्पेशल वर्ड बना लें।

परीक्षाओं में समय का दें विशेष ध्यान : कैरियर काउंसलर अबरार हुसैन ने बताया कि चयन परीक्षाओं में समय पर विशेष ध्यान देने चाहिए। कम समय में सही उत्तर का चयन करना अभ्यास से ही संभव है। ऐसे में गणित के प्रश्नों में ज्यादा न उलझकर सटिक प्रश्नों को हल करना चाहिए

पैटर्न का प्रयोग करें : नोट्स बनाने के लिए सबसे महत्वपूर्ण बात ये है की आप उसे रेगुलर किताबों में लिखी चीजों की तरह न लिखे और न ही उनका विस्तारपूर्ण तरीका इस्तेमाल करें बल्कि खुद का एक तरीका अपनाएं। जिस से आपको याद रखने में आसानी हो।

बनाए फार्मूला और याद करें मुश्किल चीजें : परीक्षा के समय वैसे ही बहुत सारा तनाव होता है। ऐसे में अभ्यार्थी को तनाव से बचते हुए थोड़ा टेक्निकल बनने की आवश्यकता है। केमिस्ट्री और बायोलॉजी में सबसे मुश्किल पार्ट किसी रसायन या किसी जीव का वैज्ञानिक नाम याद रखने के लिए उसके नाम का पहला अक्षर और लास्ट अक्सर को दिमाग में बैठते हुए एक शॉर्ट फॉर्म दिमाग में बना लें जिस से याद करने में आसानी हो।

परीक्षा की तैयारी को बनाएं आसान : कुछ विशेष तरीकों से अपने पढ़ने का तरीका कस्टमाइज कर सकते है। जो हर किसी के लिए थोड़ा अलग हो सकता है, लेकिन अगर आप शुरू से अपनी शिक्षा को लेकर सीरियस होते है तो परीक्षा की तैयारी जैसा कांसेप्ट आपको कठिन नहीं लगता है। फिर भी अगर आप परीक्षा के समय ही जागते है तो आपको बता देते है किसी भी विषय को टेक्निकल अप्रोच के साथ पढने के लिए आप चार्ट बना सकते है और किसी टॉपिक को एक विशेष महत्वपूर्ण तरीके से जरुरी बिन्दुओं के साथ हाई लाइट करते हुए उसे नोट्स तैयार कर सकते है।