biomedical waste in delhi, Covid Waste: दिल्ली में एक साल में 96% कम हुआ कोविड बायोमेडिकल कचरा – covid biomedical waste reduce by 96 percent in delhi in last one year


विशेष संवाददाता, नई दिल्लीः राजधानी में कोविड की स्थिति अब भी स्पष्ट नहीं है। डॉक्टरों के अनुसार यह स्थिति लंबे समय तक इसी तरह रह सकती है। कभी कोविड के मामले बढ़ेंगे और कभी इनमें गिरावट होगी। सावधानी जरूरी है। लेकिन इन सब के बीच जानकारी सामने आई है कि एक साल के दौरान राजधानी में कोविड बायोमेडिकल कचरा 96 प्रतिशत तक कम हो गया है। इसकी वजह है कि राजधानी में कोविड के टेस्ट बहुत अधिक नहीं हो रहे हैं। वैक्सीनेशन की रफ्तार काफी कम हो गई है। वहीं, एक साल पहले मई में जहां कोविड मरीजों की संख्या एक दिन में हजारों तक आ रही थी, अब यह संख्या काफी कम हो गई है। इसी वजह से कोविड से जुड़े बायोमेडिकल कचरे में भी भारी गिरावट दर्ज की गई। एक समय में यह कचरा काफी समस्या और चिंताजनक था।

कोविड बायोमेडिकल कचरे की निगरानी सीपीसीबी (सेंट्रल प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड) करता है। इसके लिए बोर्ड ने एक ऐप बनाया है। इस ऐप पर इस कचरे की पूरी मॉनिटरिंग भी होती है। सभी राज्य इस ऐप से जुड़े हैं। हालांकि पिछले कुछ महीने की रिपोर्ट यह भी बता रही है कि कोविड बायोमेडिकल कचरा अब भी सबसे अधिक राजधानी में ही पैदा हो रहा है। सीपीसीबी की एक रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल 2022 में देश में कुल 4.67 टीपीडी (टन प्रतिदिन) कोविड बायोमेडिकल कचरा पैदा हुआ।

navbharat times
Plastic Waste: दिल्ली में प्लास्टिक कचरे में 550 टन की कमी लाने की कोशिश, किराए पर दिए जा रहे हैं कपड़े के थैले

क्या है कोविड बायोमेडिकल कचरा
कोविड मरीजों के इलाज और उनके टेस्ट के दौरान जो कचरा पैदा होता है उसे कोविड बायोमेडिकल कचरा करते हैं। इनमें सिरिंज से लेकर मरीज के इलाज में शामिल किए जा रहे अन्य उपकरण, पीपीई किट, मास्क, दस्ताने आदि सभी शामिल हैं। इसका निस्तारण बायोमेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट रूल, 2016 के अनुरूप किए जाने का प्रावधान है। कोविड से जुड़े कचरे की निगरानी के लिए सीपीसीबी ने मई 2020 में COVID19BWM नाम से ऐप बनाया था।

कोविड बायोमेडिकल कचरे की स्थिति

महीना दिल्ली देश
मई 2022 0.733 4.67
अप्रैल 2022 0.63 3.541
मार्च 2022 1.02 9.87
फरवरी 2022 2.75 33.11
जनवरी 2022 3.84 38.41



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: