Thursday, August 11, 2022
spot_img
HomeNewsbaby kicks, इतनी देर से पेट में बच्‍चे ने नहीं मारी है...

baby kicks, इतनी देर से पेट में बच्‍चे ने नहीं मारी है किक, तो जरा संभल जाएं, डॉक्‍टर को बुलाने की पड़ सकती है जरूरत – important things to know about baby kicks in womb


​बच्चे भी देते हैं प्रतिक्रिया

navbharat times

जी हां, पेट के अंदर होते हुए भी बच्चे प्रतिक्रिया देते हैं। 20वे हफ्ते के दौरान बच्चों को कम पिच की आवाजें सुनाई देने लगती हैं, जिससे बच्चा पेट के अंदर अपनी हलचल बढ़ा देता है। यहां तक कि मां के द्वारा खाया हुआ खाना जो बेबी तक प्‍लेसेंटा से पहुंचता है, उस पर भी बच्चे प्रतिक्रिया देते हैं।

फोटो साभार : TOI

​कम लात मारना

navbharat times

डॉक्टरों के मुताबिक 28वे हफ्ते के बाद बच्चे के किक मारने की गतिविधि पर ध्यान देना चाहिए। बच्चा कितनी बार लात मार रहा है, उसकी गिनती की जानी चाहिए। डॉक्टरों के अनुसार 2 घंटे में कम से कम बच्चे की लात मारने की गिनती 10 होनी चाहिए। आखिरी के महीनों में बच्चों के लात मारने की गिनती कम हो जाती है। आखिरी के महीनों में बच्चे पूरी तरह से विकसित हो जाते हैं जिससे उन्हें ज्यादा हिलने-डुलने की जगह नहीं मिल पाती है। बच्चे के आराम करने की अवधि 20 से 90 मिनट के बीच होती है, इस वजह से भी हलचल कम महसूस होती है।

फोटो साभार : TOI

​कब करें चिंता

navbharat times

डॉक्टर के बताए अनुसार यदि आप बच्चे के किक्स की काउंटिंग कर रही हैं और बहुत समय से बच्चे ने हलचल नहीं की है तो आप बाईं करवट लेट जाएं। करवट होकर लेटने से बच्चे तक रक्त का प्रवाह अच्छी तरह पहुंचता है जिससे बच्चे हलचल करना शुरू करते हैं।

फोटो साभार : TOI

​पानी पिएं

navbharat times

बहुत सारा पानी पीने से भी बच्चे पेट में हलचल करना शुरू करते हैं। कुछ मीठा खाएं। मीठा खाकर बाईं ओर लेटने से भी बच्चे को महसूस किया जा सकता है। इन सब के बाद भी यदि आपको बच्चे की हलचल महसूस ना हो तो डॉक्टर से संपर्क जरूर करें।

फोटो साभार : TOI

​बच्चे का व्यवहार

navbharat times

ऐसा कहा जाता है कि जो बच्चे पेट के अंदर ज्यादा एक्टिव होते हैं वह बाहरी दुनिया में भी उतना ही एक्टिव होते हैं। यानि कि बच्चे का व्यवहार पेट से ही जाना जा सकता है। बच्चे भविष्य में कैसे होंगे इसका सिर्फ पेट में हलचल करना ही मापदंड नहीं हो सकता है। इसलिए बच्चों की हलचल को बच्चे के व्यवहार से ना जोड़कर सिर्फ उस पल को महसूस कीजिए और आनंद लीजिए।



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments