arvind sen gangster act: यूपी के पशुपालन घोटाले में बड़ा ऐक्शन, निलंबित DIG अरविंद सेन समेत 21 के खिलाफ लगा गैंगस्टर ऐक्ट – pashupalan vibhag ghotala suspended dig arvind sen charged in gangster act


लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के चर्चित पशुपालन विभाग में टेंडर दिलवाने के नाम पर करोड़ों की ठगी के मामले में अब हजरतगंज पुलिस ने निलंबित डीआईजी अरविंद सेन सहित 21 लोगों के खिलाफ गैंगस्टर ऐक्ट के तहत रिपोर्ट दर्ज की है। इंस्पेक्टर हजरतगंज ने सभी के खिलाफ 17 मार्च को गैंगस्टर की एफआईआर दर्ज करवाई है। करोड़ों की ठगी के मामले में निलंबित डीआईजी अरविंद सेन, रूपक राय, उमाशंकर तिवारी, अनिल राय, त्रिपुरेश पांडेय, सचिन वर्मा, रजनीश दीक्षित, धीरज कुमार देव, अखिलेश कुमार उर्फ एके राजीव, रघुवीर प्रसाद, संतोष मिश्र, दिलबार यादव, अमित मिश्र, उमेश मिश्र, अरुण राय, प्रवीण राघव, महेंद्र तिवारी, लोकेश मिश्र और गैंग लीडर आशीष राय के खिलाफ गैंगस्टर ऐक्ट के तहत कार्रवाई की गई है।

अरुण राय के सेंडर के बाद लगा सभी पर गैंगस्टर
टेंडर के नाम पर हुई करोड़ों की ठगी के मामले में आजमगढ़ निवासी कारोबारी अरुण राय काफी समय से फरार चल रहा था। उसकी गिरफ्तारी पर 25 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था। डीसीपी सेंट्रल ने उसपर 25 हजार रुपये का इनाम भी घोषित किया था। अरुण राय ने बीते 9 फरवरी को आजमगढ़ कोर्ट में सरेंडर कर दिया। अरुण राय ने आजमगढ़ कोर्ट में आजमगढ़ के गंभीरपुर थाने में वर्ष 2108 में दर्ज मारपीट के मामले में आत्मसमर्पण किया।

अरुण राय के सरेंडर करने के बाद एसीपी गोमतीनगर ने जेल में बंद अरुण राय का बयान दर्ज किया। इसके बाद इस मामले में एसीपी गोमतीनगर ने सभी आरोपितों के खिलाफ चार्जशीट कोर्ट में फाइल कर दी थी।

यह है पूरा मामला

मध्यप्रदेश कारोबारी मंजीत सिंह भाटिया उर्फ रिंकू से पशु पालन विभाग में 92 करोड़ रुपये का टेंडर दिलवाने के नाम पर 9.72 करोड़ रुपये की ठगी की गई थी। इस ठगी में जालसाजों ने विधानभवन के एक कमरे का प्रयोग किया था। इस मामले में पीड़ित ने 13 जून 2020 को हजरतगंज कोतवाली में आशीष राय, मोंटी गुजर रूपक राय, संतोष मिश्रा, एके राजीव, अमित मिश्रा, उमाशंकर तिवारी, रजनीश दीक्षित, डीबी सिंह, अरुण राय, अनिल राय, धीरज कुमार और उमेश मिश्र के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम सहित अन्य धाराओं में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी। इस मामले की विवेचना एसीपी गोमतीनगर को दी गई थी। इस मामले की विवेचना में निलंबित डीआईजी अरविंद सेन और अन्य लोगों का नाम भी प्रकाश में आया था। 21 माह में ही गई जांच में 21 लोग आरोपित पाए गए थे।



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: