Acid reflux home remedy: खट्टी डकार, सीने में जलन, बदहजमी को जड़ से खत्म करेगी Nutritionist द्वारा बताई ये चीज – according to nutritionist include probiotic foods in your diet to get rid acid reflux fast


एसिड रिफ्लक्स (Acid reflux) एक आम समस्या है, जो जलन और दर्द का कारण बनती है। यह समस्या तब होती है, जब पेट की एसिड सामग्री ग्रासनली में प्रवाहित होकर गुलाल (Esophagus) में चली जाती है। इसे हीटबर्न (Heartburn) के रूप में भी जाना जाता है।

मोटापा, स्मोकिंग, उल्टी-सीधी चीजें खाना, बहुत अधिक कैफीन का सेवन, फिजिकल एक्टिविटी की कमी और कुछ दवाएं इस स्थिति को बढ़ा सकती हैं। इस समस्या के लिए मेडिकल में कई तरह के उपचार हैं लेकिन आप कुछ घरेलू उपायों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

एसिड रिफ्लक्स के लिए घरेलू उपचार में से एक है प्रोबायोटिक्स का सेवन करना। प्रोबायोटिक्स हेल्दी बैक्टीरिया से भरे होते हैं, जो आपके पेट के स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होते हैं। Detoxpri की फाउंडर एंड होलिस्टिक नूट्रिशनिस्ट प्रियांशी भटनागर बता रही हैं कि प्रोबायोटिक्स के सेवन से एसिड रिफ्लक्स की समस्या से कैसे राहत मिल सकती है।

एसिड रिफ्लक्स के लिए प्रोबायोटिक्स कितना फायदेमंद

navbharat times

प्रोबायोटिक्स जीवित सूक्ष्म जीव है, जो पाचन तंत्र में अच्छे या अनुकूल बैक्टीरिया को बढ़ाते हैं जिससे पाचन में सुधार और अन्य स्वास्थ्य लाभ होते हैं। प्रोबायोटिक्स कुछ लोगों में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल डिजीज जैसे दस्त, कब्ज, इर्रिटेबल बाउल सिंड्रोम को कंट्रोल करने में मदद कर सकते हैं।

एसिड रिफ्लक्स के कारण

navbharat times

अधिक खाना, मसालेदार, तैलीय भोजन करना, शराब, खाना खाने के तुरंत बाद सोना / लेटना, जल्दबाजी में खाना, तनाव आदि सभी एसिड रिफ्लक्स का कारण बन सकते हैं। आंत के बैक्टीरिया में भोजन के सही तरीके से न टूटने और आंतों की गैस बनने की वजह से यह समस्या हो सकती है।

आंतों में अच्छे बैक्टीरिया बढ़ाते हैं प्रोबायोटिक्स

navbharat times

प्रोबायोटिक्स पाचन तंत्र में अच्छे बैक्टीरिया की संख्या बढ़ाकर और भोजन को बेहतर ढंग से पचाने में मदद करके इसे नियंत्रित या कम करने में मदद कर सकते हैं। दही जैसे डेयरी उत्पाद चुनने के लिए कुछ अच्छे विकल्प हैं।

डायरिया से भी मिलती है राहत

navbharat times

प्रोबायोटिक्स आंत में बैक्टीरिया के स्वस्थ संतुलन को बनाए रखने में मदद करते हैं। इन्हें अपने आहार में शामिल करने से दस्त का इलाज करने में भी मदद मिल सकती है। यह दस्त की गंभीरता को कम करता है। प्रोबायोटिक्स आपके मानसिक स्वास्थ्य के साथ-साथ हृदय स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद होते हैं।

प्रोबायोटिक्स में कौन सा भोजन सबसे अधिक है?

navbharat times

प्रोबायोटिक्स के लिए आपको दही, केफिर, कोम्बुचा, सौकरकूट, अचार, मिसो, सॉफ्ट चीज, दूध, किमची, खट्टी ब्रेड जैसी चीजों का सेवन करना चाहिए। अगर बात करें देसी चीजों की तो दही, ढोकला, इडली, अचार और किमची जैसी चीजें इसका बढ़िया स्रोत हैं।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।





Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: