aap on delhi mcd schools: आप ने कहा, नॉर्थ MCD कर रही है स्कूलों को बंद, बीजेपी ने दिया जवाब- स्कूल न बेचा जा रहा है, न बंद होगा – aap and bjp blame game on north mcd schools issue


विशेष संवाददाता, नई दिल्लीः आम आदमी पार्टी ने बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा है कि नॉर्थ एमसीडी में 40 स्कूलों को बंद किया जा रहा है और बच्चों की शिक्षा के साथ खिलवाड़ हो रहा है। आप नेता दुर्गेश पाठक ने कहा कि नॉर्थ एमसीडी इन स्कूलों को बंद करने के पीछे बच्चों की संख्या कम होने को वजह बता ही है जबकि खुद एमसीडी का दावा है कि पिछले साल 2.9 लाख बच्चे थे और इस साल 3.03 लाख बच्चे स्कूलों में है। ऐसे में सवाल यह है कि जब स्कूलों में 13 हजार बच्चे बढ़े हैं तो बीजेपी नए स्कूल बनाने की जगह 40 स्कूल बंद क्यों कर रही है।

पाठक ने कहा कि नॉर्थ एमसीडी ने पिछले साल 34 स्कूल बंद किए थे, तब भी बच्चे कम होने का कारण दिया था। अब खबर सामने आई है कि जल्द ही बीजेपी इन 40 स्कूलों को बेचने का प्रस्ताव रखने वाली है। उन्होंने कहा कि किसी भी देश, राज्य की तरक्की के लिए शिक्षा व्यवस्था का बेहतर होना बहुत जरूरी है। एक तरफ दिल्ली सरकार का शिक्षा मॉडल देश- विदेश में चर्चा में है और दिल्ली सरकार के स्कूलों के स्टूडेंट्स बड़ी बड़ी कामयाबी हासिल कर रहे हैं, वहीं एमसीडी की हालत यह है कि लगातार स्कूलों को बंद करने की कोशिश की जा रही है। एमसीडी स्कूलों में बहुत ही गरीब परिवार के बच्चे पढ़ने जाते हैं और एमसीडी इन बच्चों के साथ खिलवाड़ कर रही है।

navbharat times
MCD Schools News: नॉर्थ एमसीडी में भी इवनिंग शिफ्ट वाले स्कूल होंगे बंद

कुछ दस्तावेज पेश करते हुए पाठक ने कहा कि एमसीडी ने अभी कुछ दिनों पहले दक्षिणी दिल्ली के स्कूल बंद किए थे। इसी तरह से अब वह उत्तरी दिल्ली के स्कूल बंद करने जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछले साल इन्होंने नॉर्थ एमसीडी के 34 स्कूल बंद किए थे, वहीं इस साल 40 स्कूलों को बंद करने का प्रस्ताव लाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एमसीडी के आंकड़ों में गड़बड़ी साफ नज़र आती है। अगर 13 हजार बच्चे एमसीडी के स्कूलों में बढ़े, तब तो और स्कूल खुलने चाहिए थे। फिर स्कूलों को बंद क्यों किया जा रहा है?

निगम का कोई भी स्कूल न बेचा जा रहा है, न बंद हो रहा हैः बीजेपी
दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता प्रवीण शंकर कपूर ने कहा है कि जैसे-जैसे निगम चुनाव नजदीक आ रहा है, वैसे-वैसे आम आदमी पार्टी नेताओं के झूठे प्रपंच बढ़ते जा रहे हैं। खासकर आम आदमी पार्टी के नेता दुर्गेश पाठक तो सफेद झूठ बोलने लगे हैं। उन्होंने दिल्ली सरकार के स्कूलों के उच्च स्तर का दावा करते हुए नगर निगमों पर 40 स्कूलों को बंद करने का आरोप लगाया है। ये दोनों ही बातें झूठी हैं। कपूर के मुताबिक, नगर निगम अपना कोई स्कूल बंद नहीं कर रही हैं और ना ही कोई स्कूल भवन खाली कराया जा रहा है। केवल शाम की पाली में चलने वाले कुछ स्कूलों को छात्रों के अभाव के चलते सुबह की पाली के स्कूलों के साथ मर्ज किया जा रहा है। कोविड काल के बावजूद नगर निगम अपने सभी प्राइमरी स्कूलों के बच्चों को ऑनलाइन शिक्षा दे रही हैं और उनकी नियमित क्लासेज भी चल रही हैं। वहीं दूसरी ओर दुर्गेश पाठक के दिल्ली सरकार के स्कूलों में सुधार के दावे बिल्कुल खोखले हैं।

navbharat times‘झूठ की बुनियाद पर टिका है दिल्ली का शिक्षा मॉडल, सात साल में 1.09 लाख बच्चे कम हुए दिल्ली सरकार के स्कूलों से’
उन्होंने कहा कि दिल्ली में सात साल में एक भी नया स्कूल नहीं खुला है, केवल कुछ पुराने स्कूलों में नए कमरे बनाए हैं। दिल्ली सरकार के तीन चौथाई से अधिक स्कूलों में सीनियर सेकंड्री क्लास में विज्ञान और कॉमर्स पढ़ाने की व्यवस्था नहीं है। आधे से ज्यादा स्कूलों में प्रधान अध्यापक ही नहीं हैं और शिक्षकों के 30 प्रतिशत से अधिक पद खाली पड़े हुए हैं। बेहतर होगा कि आम आदमी पार्टी नेता के नगर निगमों पर राजनीतिक द्वेष के चलते झूठे आरोप लगाने के बजाय दिल्ली सरकार को अपने हायर सेकंड्री स्कूलों और निगमों के प्राइमरी स्कूलों के समग्र विकास के लिए कुछ काम करने के लिए कहें।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: