राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर उपराज्यपाल चिंतित
December 20, 2018 • Shiv Mohan

राजधानी में महिलाओं की सुरक्षा को लेकर उपराज्यपाल चिंतित

बाल गृह व आश्रय गृहों में सुरक्षा हो सुनिश्चित : बैजल

- स्कूल और कालेज के आसपास उपलब्धता बढ़ाए दिल्ली पुलिस -

महिला सुरक्षा के चलते डीटीसी बसों में जल्द लगाया जाए इमरजेंसी सुरक्षा बटन : बैजल

आवाज़ ऐ हिन्द टाइम्स संवादाता, नई दिल्ली, दिसम्बर 2018, उपराज्यपाल ने दिल्ली पुलिस से कहा कि वह स्कूल और कालेज के आसपास उपलब्धता बढ़ाए। दिल्ली पुलिस को यह भी निर्देश दिए गए कि जहां भी संभावना हो वहाँ स्वागत कक्ष पर महिला पुलिस कर्मियों की तैनाती की जाए, महिलाओं और बच्चों से संबंधित मामलों की जांच में तेजी लाई जाए, दिल्ली पुलिस में महिला पुलिस कर्मियों की वृद्धि की जाए और हिम्मत प्लस एप को और बेहतर बनाया जाए। उन्होंने महिला सुरक्षा से संबंधित सभी विभागों को जोर देकर कहा कि दिल्ली को महिलाओं के लिए सुरक्षित शहर बनाने के लिए एकजुट होकर समन्वित प्रयास करें। लोगों की मानसिकता पर बदलाव के लिए जोर देते हुए उपराज्यपाल महोदय ने सभी विभागों को निर्देश दिए कि वह जागरूकता के लिए और संवेदीकरण कार्यक्रमों को बनाए रखने अपने प्रयास करते रहें।

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने छात्राओं के बीच सुरक्षा की भावना को बढ़ाने के लिए स्कूलों में अधिक संख्या में महिला गाई, सिविल डिफेस वालियंटर की तैनाती के निर्देश दिए हैं। पिछले दिनों नो लड़कियों के लापता होने की घटना को देखते हुए उन्होंने कहा कि बाल गृह और आश्रय गहों में सरक्षा और संरक्षा सुनिश्चित करने के लिए थर्ड पार्टी लेखा-परीक्षा की जाए ताकि वहां रहने वाले किसी अप्रिय घटना से बच सके। 

वैजल ने राजनिवास में महिला सुरक्षा बल, टास्क फोर्स की बैठक की अध्यक्षता की। इस बैठक में मुख्य सचिव, दिल्ली सरकार, चेयरपर्सन, महिला एवं बाल विकास, प्रधान सचिव, (गृह), दिल्ली सरकार, पुलिस आयुक्त, दिल्ली, सचिव, (शिक्षा), दिल्ली सरकार, विशेष आयुक्त (यातायात), दिल्ली पुलिस, विशेष आयुक्त, (महिला सुरक्षा), दिल्ली पुलिस, आयुक्त, (परिवहन), दिल्ली सरकार के कई अधिकारी मौजूद थे। बैठक की शुरुआत में उपराज्यपाल ने शिक्षा सचिव, को निर्देश दिया कि अधिकारियों द्वारा स्कूलों का नियमित निरीक्षण किया जाना चाहिए ताकि सरक्षा से संबंधित कमियों की पहचान की जा सके और उसका हल निकाला जा सके।

उन्होंने स्कूलों के साथ-साथ छात्रों में सुधार के लिए छत्र, शिक्षक, पूर्व छात्र और पूर्व शिक्षकों से प्रतिक्रिया प्राप्त करने का निर्देश दिया। उपराज्यपाल ने छात्राओं के बीच में रक्षा की भावना को मजबूत करने के लिए स्कूलों में और अधिक महिला सिविल डिफेंस कार्यकर्ता की तैनाती करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने विभिन्न स्कूलों में तैनात निजी सुरक्षा गार्ड को सभी बाल गृहों और आश्रय गृहों की थर्ड पार्टी से लेखा परीक्षा के निर्देश भी दिए ताकि इन संस्थानों में सुरक्षा की भावना जागृत हो सके और इनमें रहने वाले किसी भी अप्रिय घटना से बच सके। साथ ही परिवहन आयुक्त को डीटीसी की सभी बसों में परसी बटन जो दिल्ली पुलिस के मुख्यालय से जुड़ा होगा, लगाने की ओर तेजी लाने के निर्देश दिए।

कृपया लाइक व शेयर ज्यादा से ज्यादा करे - https://www.facebook.com/awazehindtimes

http://newsawazehind.blogspot.com, https://awazehindtimes.blogspot.com

धन्यवाद !