Awaz E Hind Times
जलमग्न डाटा केंद्र लगाया इंटरनेट तेज करने को माइक्रोसॉफ्ट ने
February 3, 2019 • एडिटर आवाज़ ऐ हिन्द टाइम्स

स्कॉटलैंड के ओर्कनेय द्वीप में पानी के नीचे 40 फुट गहराई में बना है डाटा केंद्र, तेजी से डाटा भेजा जा सकेगा और इंटरनेट गति बढ़ेगी

नई दिल्ली, माइक्रोसॉफ्ट ने स्कॉटलैंड के ओर्कनेय द्वीप में पानी के नीचे 40 फुट गहराई में एक डाटा केंद्र स्थापित किया है। पनडुब्बीनुमा इस डाटा केंद्र में कंप्यूटरों के 12 रैक और 864 सर्वर हैं। अपने प्रयोग पर माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि पानी के अंदर डाटा केंद्र स्थापित करके दुनियाभर में और तेजी से डाटा भेजा जा सकेगा और इंटरनेट गति बढ़ेगी।

वीडियो स्ट्रीमिंग होगी तेजः अपने नेटिक नामक प्रोजेक्ट के बारे में माइक्रोसॉफ्ट का कहना है कि दुनिया में लगभग आधी आबादी जलीयतटों के किनारे रहती है, इसलिए डाटा को आसानी से कम समय में तटीय समुदायों तक पहुंचाया जा सकता है, जिसका फायदा यह होगा कि लोगों को तेज और बिना रुकावट के वेब सर्किंग करने, वीडियो स्ट्रीमिंग और ऑनलाइन गेम खेलने को मिलेगा। साथ ही एआई (कृत्रिम बुद्धिमत्ता) से संचालित तकनीकों के अनुभवों को और वास्तविक बनाया जा सकेगा।

भविष्य की योजनाः अगले एक वर्ष तक डाटा केंद्र की पावर खपत, आंतरिक नमी स्तर आदि पक्षों को मॉनिटर किया जाता रहेगा। यह प्रयोग सफल होता है तो माइक्रोसॉफ्ट समुद्रीय तटों के किनारे बसे शहरों के किनारे डाटा केंद्र स्थापित करेंगे।

क्लाउड सेवा के लिए कंपनियां बना रही हैं डाटा केंद्रः क्लाउड सर्विस के जरिये कंपनियां खूब कमाई कर रही हैं। गूगल ड्राइव, आई क्लाउड, वन ड्राइव जैसी क्लाउड सेवा को चलाने के लिए क्लाउड प्रदाता कंपनियों को डाटा केंद्रों की जरूरत होती है। पिछले साल माइक्रोसॉफ्ट ने गूगल और अमेजन के साथ क्लाउड सर्विस से कमाई करने की दौड़ में आगे निकलने को कई डाटा सेंटर खरीदे थे। इसके लिए कंपनियों ने 50 अरब डॉलर खर्च किए, जो तीन वर्षों में खर्च किए गए रुपये से अधिक है।

जलमग्न डाटा केंद्र के फायदे -

• ओकनेय द्वीप में जल में डबे इस डाटा केंद्र से यहां रखे कंप्यूटर आदि डिवाइस को ठंडा रखने में आने वाला खर्च घट जाएगा।

• डाटा केंद्र को दीप की नवीकरणीय ऊर्जा का भी फायदा मिलेगा. क्योंकि द्वीप समूह ग्रिड से एक केबल डाटा केंद्र को बिजली भेजेगा। इस कारण डाटा केंद्र जब अपनी पूरी क्षमता पर भी संचालित होगा, तब भी एक चौथाई मेगावाट बिजली की ही जरूरत होगी।

• पांच साल तक बिना किसी मरम्मत के कंपनी इस डाटा केंद्र को संचालित कर पाएगी।