बढ़ाई पोलिंग स्टेशनों की संख्या, ताकि न लगे लंबी लाइन
March 11, 2019 • Editor Awazehindtimes

वोटर लिस्ट में नाम जुड़वाने का अब भी मौका, 30 से 49 साल के वोटर होंगे दिल्ली के लिए सबसे अहम, फर्स्ट टाइम वोटरों की संख्या दिल्ली में काफी कम है, ज्यादा से ज्यादा युवा वोटरों को जोड़ने की कोशिश की जा रही है

नई दिल्ली : चुनावों की तारीख घोषित हो गई है। अब भी वोटर अपने नाम वोटर लिस्ट में जुड़वा सकते हैं। हालांकि अब इसमें देरी करने से संभावनाएं उतनी ही कम होती जाएंगी। चुनाव कार्यालय से मिली जानकारी के अनुसार नॉमिनेशन के अंतिम दिन तक फॉर्म-6 भरा जा सकता है।

चुनाव कार्यालय के अनुसार इस समय वोटर लिस्ट में सबसे अधिक वोटर 30 से 49 साल के हैं। जबकि नए वोटरों की संख्या दिल्ली के लिहाज से काफी कम है। दिल्ली की वोटर लिस्ट में 18 से 19 साल की उम्र के बीच के वोटर अब तक एक लाख के करीब है, जबकि इन्हें ढाई से तीन लाख के आसपास होना चाहिए। इन लोगों की संख्या बढ़ाने के लिए चुनाव कार्यालय की तरफ से ऐप भी बनाया गया ताकि यह आसानी से अपने नाम वोटर लिस्ट में दर्ज करवा सकें। कॉलेजों व स्कूलों में अवेयरनेस ड्राइव चलाई गई, लेकिन नतीजा सामने नहीं आया। इसके बावजूद चार महीने के समय में सिर्फ 2500 के करीब ही फर्स्ट टाइम वोटर जोड़ने में कामयाबी मिल सकी। वोटर लिस्ट के फाइनल पब्लिकेशन का काम 18 जनवरी 2019 को हुआ था।

दिल्ली में लोकसभा चुनाव 12 मई को होंगे। तब लू और गर्मी तेज होगी। ऐसे में मतदान केंद्रों पर लंबी लाइन न लगे, लोगों को वोटिंग के लिए बहुत दूर न जाना पड़े, इसके लिए चुनाव कार्यालय ने पोलिंग स्टेशन और पोलिंग लोकेशन की संख्या बढ़ाई है।

चुनाव कार्यालय के अनुसार, कोशिश की जा रही है कि लोगों को पोलिंग लोकेशन सहूलियत के हिसाब से मिले। एक ही परिवार के सदस्यों के पोलिंग स्टेशन अलग-अलग न हों। 2018 की तुलना में इस बार दिल्ली में सबसे अधिक बूथ होंगे। तब दिल्ली में कुल 13486 बूथ थे। ये इस बार बढ़कर 13816 हो गए हैं। पोलिंग लोकेशन की संख्या भी 2670 से बढ़ाकर 2696 कर दी गई है।

दिल्ली में पहली बार सभी पोलिंग स्टेशनों पर वीवीपैट मशीनों से मतदान होगा। मशीन की खासियत यह है कि इनमें 7 सेकंड तक एक पर्ची पर यह दिखाई देगा कि आपने जो वोट दिया है, वह किस पार्टी को गया है। हालांकि यह पर्ची वोटर को नहीं मिलेगी। मशीन के ड्रॉप बॉक्स में सुरक्षित रहेगी। वोटर इसे 7 सेकंड के लिए देख सकेंगे।

इलेक्शन कमिश्नर ने एक ऐप पीडब्ल्यूडी (पर्सन विद डिसेबिलिटी) शुरू किया है। इस ऐप में सभी दिव्यांग वोटर फॉर्म-6 और अन्य फॉर्म भरकर जमा करवा सकते हैं। पोलिंग स्टेशन पर आने से पूर्व वह अपना रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। इसकी जानकारी पहले ही पोलिंग स्टेशन को मिल जाएगी और दिव्यांग के लिए वील चेयर का इंतजाम रहेगा। अन्य वोटरों के लिए भी ऐप लॉन्च किया गया है। इसमें लोग अपने नाम को वोटर लिस्ट में चेक कर सकते हैं। विभिन्न तरह के फॉर्म भर सकते हैं। चुनाव से जुड़ी जानकारी भी ले सकते हैं।
चुनाव कार्यालय की कोशिश, पोलिंग लोकेशन सहूलियत के हिसाब से मिले