बढोतरी हुई ऑनलाईन कर जमा करने वालों की
April 3, 2019 • awazehindtimes@gmail.com

उपलब्धि : 20 प्रतिशत की दर्ज की वृद्धि उत्तरी दिल्ली
नगर निगम ने संपत्ति कर संग्रह में रिकॉर्ड 

नई दिल्ली, अप्रैल। उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने पिछले साल की तुलना में इस साल संपत्ति कर संग्रह में भारी वृद्धि हासिल करते हुए 31 मार्च, 2019 तक 666.18 करोड़ रुपये जुटाए हैं। जो कि पिछले वर्ष के संपत्ति कर 555.18 करोड़ रुपये से 111 करोड़ रुपये अधिक है।

इस तरह इस वर्ष उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने संपत्ति कर संग्रह में 19.99 प्रतिशत की वृद्धि की है। इसी प्रकार स्थानांतरण शुल्क में इस वर्ष दिसंबर, 2018 तक 508.70 करोड़ रुपये जुटाए गए। जो कि पिछले वित्तीय वर्ष में 391.68 करोड़ रुपये की तुलना में 117.02 करोड़ रुपये अधिक है। उत्तरी दिल्ली नगर निगम ने स्थानांतरण शुल्क में भी 29.87 प्रतिशत की वद्धि हुई है।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम द्वारा संपत्ति कर के दायरे में 41,662 अधिक कर दाताओं को भी लाया गया है, जिससे संपत्ति करदाताओं की संख्या भी 404371 से बढ़ कर 446033 हो गई है। अतिरिक्त आयुक्त डॉ. बीएम मिश्रा ने बताया की उन करदाताओं के लिए आम माफी योजना लागू की गई जिन्होंने 1 अप्रैल, 2004 से अपने देय संपत्ति कर का भुगतान नहीं किया था। इस योजना में ब्याज और जुर्माना माफी की सुविधा दी गई थी।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम को आम माफी योजना से 156.85 करोड़ मिले। सरकारी संपत्तियों से इस वर्ष 107.59 करोड़ रूपए मिले। अतिरिक्त आयुक्त डॉ. बीएम मिश्रा ने बताया कि करदाताओं को आम माफी योजना के अनुसार उनके देय संपत्ति कर की ऑनलाइन गणना करने की सुविधा भी दी गई थी, ताकि उन्हें अपने संपत्ति कर का भुगतान करने के लिए कार्यालय आने की आवश्यकता न हो।

अतिरिक्त आयुक्त डॉ. बीएम मिश्रा ने बताया कि ऑनलाइन पोर्टल से 2.70 करोड़ रुपए की कर वसूली की गई। डॉ. बीएम मिश्रा ने बताया कि करदाताओं की सुविधा के लिए विभिन्न वाडों में 900 शिविर आयोजित किए गए। साथ ही, स्थिति का जायजा लेने के लिए साप्ताहिक बैठके की और संपत्ति कर का भुगतान ना करने पर 944 संपत्तियां और 1902 बैंक खाते कुर्क किए गए।

सभी संपत्तियों को कर के दायरे में लाने के लिए विशिष्ठ संपत्ति पहचान कोड़ (यूपिक) प्रणाली शुरू की गई थी। जनता के साथ व्यापक सहभागिता, जागरूकता और शिकायत निवारण के परिणामस्वरूप ही संपत्ति कर की अधिक वसूली हो सकी।