2020-21 वाणिज्यिक ऋण घरेलू बैंकों की हिस्सेदारी घटकर 34 प्रतिशत पर : रिपोर्ट – 202021 commercial lending, domestic banks’ share reported to decline to 34 per cent


मुंबई, 23 मार्च (भाषा) कुल वाणिज्यिक ऋण में घरेलू बैंकों की हिस्सेदारी वित्त वर्ष 2010-11 के 56 प्रतिशत से घटकर वित्त वर्ष 2020-21 में 34 प्रतिशत के निचले स्तर तक आ गई है। एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इस गिरावट का कारण महामारी के साथ-साथ कंपनियों द्वारा कोष जुटाने के लिए बैंकों से दूरी बनाना है।

रिपोर्ट में बताया गया है कि 2020-21 में वाणिज्यिक ऋण में गैर-बैंकों की हिस्सेदारी दोगुना से अधिक होकर 44 प्रतिशत पर पहुंच गई है, जबकि विदेशी बैंकों की हिस्सेदारी बढ़कर 22 प्रतिशत हो गई है। इस वजह से कुल ऋण में गैर-बैंक ऋण प्रवाह दो-तिहाई यानी 66 प्रतिशत से अधिक हो गया है।

बोफा ग्लोबल रिसर्च की रिपोर्ट में कहा गया है कि घरेलू गैर-बैंक स्रोतों से ऋण प्रवाह वित्त वर्ष 2020-21 में वाणिज्यिक क्षेत्र के लिए दिये गये कुल ऋण का 44 प्रतिशत था, जो वित्त वर्ष 2010-11 के मुकाबले दोगुना से अधिक है।

रिपोर्ट में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश, बैंक कर्ज और आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) निवेश को उद्योग को विदेशी ऋण के हिस्से के रूप में शामिल किया गया है। यह 2020-21 में बढ़कर कुल प्रवाह का 22 प्रतिशत हो गया है। 2010-11 की तुलना में यह दोगुना है।



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: