Sunday, July 3, 2022
HomeHealth News10 amazing health benefits of himalayan viagra or keeda jadi for sexual,...

10 amazing health benefits of himalayan viagra or keeda jadi for sexual, cancer and others health problems – Himalayan Viagra: सोने से भी कीमती ‘कीड़ा जड़ी’ को लेकर हो रही मारामारी, यौन क्षमता बढ़ाने के साथ ये हैं 5 फायदे


अगर आप इंटरनेट पर खबर पढ़ते हैं या वायरल न्यूज में दिलचस्पी रखते हैं, तो आपने ‘हिमालयन वियाग्रा’ (Himalayan Viagra) का नाम जरूर सुना होगा। यह खास तरह की जड़ी बूटी पिछले कुछ सालों से काफी चर्चा में है और इसकी चर्चा की वजह इसके खास फायदे और कीमत है। बताया जाता है कि बाजार में ‘कीड़ा जड़ी’ के नाम से मशहूर इस जड़ी बूटी का इस्तेमाल यौन समस्याओं के इलाज में किया जाता है और बाजार में इसकी कीमत करीब 20 लाख रुपये किलो है।

कीड़ा जड़ी क्या है? इस बेशकीमती जड़ी बूटी को कैटरपिलर फंगस और ‘हिमालयन वियाग्रा’ के नाम से भी जाना जाता है। यह सोने की तुलना में अधिक मूल्यवान है क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इसके सेवन से कई स्वास्थ्य लाभ मिलते हैं। इस जड़ी बूटी को ‘यार्त्सा गनबू’ (Yartsa gunbu) के रूप में जाना जाता है। यह जड़ी बूटी एक पीले कैटरपिलर और एक मशरूम से मिलकर बनती है। इसे कैटरपिलर फंगस कहा जाता है क्योंकि यह घोस्ट मॉथ लार्वा के सिर से निकलता है।

कहां मिलती है कीड़ा जड़ी

navbharat times

बहुत से लोगों का मानना है कि इसे पानी में उबालकर चाय, सूप और स्टू बनाकर पीने से नपुंसकता और लीवर की बीमारियों से लेकर कैंसर तक का इलाज करने में मदद मिल सकती है। यह जड़ी बूटी तब बढ़ती है जब तापमान बढ़ता है और भूटान, चीन, भारत और नेपाल के 3300 मीटर से 4,500 मीटर के बीच उन पहाड़ी हिस्सों में पाई जाती है, जहां बर्फ पिघलती है।

उत्पादन में आई भारी कमी

navbharat times

हिमालयन वियाग्रा हिमालय के उन ऊंचे चरागाहों में पाई जाती है, जहां बर्फ पिघलती है। ऐसा माना जाता है कि निवास स्थान में गिरावट, अधिक कटाई और जलवायु परिवर्तन जैसे कई कारणों से कैटरपिलर फंगस के उत्पादन में कमी आई है।

इसे कैसे और कब उगाया जाता है?

navbharat times

यह हिमालय क्षेत्र में केवल 3,000 मीटर से ऊपर के हिस्सों में पाई जाती है। यह तब बनती है, जब कैटरपिलर एक खास तरह की घास खाता है और मरने के बाद उसके भीतर यह जड़ी बूटी उगती है। चूंकि यह जड़ी बूटी आधा कीड़ा और जड़ी होती है। यही वजह है कि इसे कीड़ा जड़ी कहते हैं।

कीड़ा जड़ी के पोषक तत्व

navbharat times

यह कॉर्डिसेपिन एसिड, कॉर्डिसेपिन, डी-मैनिटोल, पॉलीसेकेराइड, विटामिन ए, विटामिन बी1, बी2, बी6, बी12, सीरियन, जिंक, एसओडी, फैटी एसिड, न्यूक्लियोसाइड प्रोटीन, कॉपर, कैबोहाइड्रेट आदि जैसे विभिन्न पोषक तत्वों और खनिजों से भरपूर है।

कीड़ा जड़ी के स्वास्थ्य लाभ

navbharat times

हिमालयन वियाग्रा का उपयोग लगभग 1000 वर्षों से कामोद्दीपक के रूप में या हाइपोसेक्सुअलिटी के उपचार के रूप में किया जाता रहा है। यह रात के पसीने, हाइपरग्लेसेमिया, हाइपरलिपिडिमिया, अस्टेनिया, दिल की धड़कन बढ़ना के इलाज में भी मदद करता है। यह जड़ी बूटी इम्यून सिस्टम, कार्डियक वैस्कुलर हेल्थ, श्वसन, किडनी, लीवर से जुड़े रोगों में फायदेमंद है। इसे एंटीट्यूमर, एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुणों के लिए भी जाना जाता है।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

अंग्रेजी में इस स्‍टोरी को पढ़ने के लिए यहां क्‍लिक करें



Source link

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments