मुजाहिदीन कौन - आतंकी, नेकां या पीडीपी कार्यकर्ता?
March 27, 2019 • Editor Awazehindtimes

नेताओं के बिगड़े बोल कश्मीर में

जमकर लग रहे दुश्मन के समर्थन में नारे

जम्मू, मार्च। जम्मू-कश्मीर में नेताओं के बिगड़े बोल जारी हैं। पाकिस्तान जिन्दाबाद कहने वाले विवाद की आग अभी ठंडी नहीं हुई थी कि अब नेकां नेता अपनी पार्टी के कार्यकताओं को असली मुजाहिदीन कहने लगे हैं। इससे पहले महबूबा मुफ्ती भी पीडीपी कार्यकर्ताओं को असली मुजाहिदीन करार देते हुए लोगों के गस्से का शिकार हो चकी है।

अब नेशनल कांफ्रेंस के नेता अली मुहम्मद सागर के इस बयान के बाद चर्चा का विषय यह है कि आखिर कश्मीर में असली मुजाहिदीन है कौन, वे आतंकी जो मासूमों की हत्याएं कर रह रहे हैं या फिर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी या नेशनल कांफ्रेंस के कार्यकर्ता।

स्थिति यह है कि इन नेताओं के बिगड़े बोलों के कारण पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को परेशानी भी उठानी पड़ रही है खास कर जम्मू संभाग में जहां इस प्रकार की विचारधारा का हमेशा ही विरोध कियाा जाता रहा है। दरअसल आज बारामुल्ला में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए नेकां के महासचिव और नेकां के वरिष्ठ नेता अली मुहम्मद सागर ने दावा किया कि पीडीपी के कार्यकर्ता नहीं बल्कि उनकी पार्टी का काडर ही असली मुजाहिदीन है।

जानकारी के लिए कश्मीर में सक्रिय आतंकियों तथा अफगानिस्तान से आने वाले विदेशी आतंकियों को मुजाहिदीन कहा जाता है। दरअसल वे पीडीपी की अध्यक्षा महबूबा मुफ्ती के उस बयान के संदर्भ में टिप्पणी कर रहे थे जिसमें महबूबा ने 17 मार्च को कुपवाड़ा में कहा था कि उनकी पार्टी के कार्यकर्ता असली मुजाहिदीन हैं चाहे उनके हाथों में बंदूक या पत्थर नहीं है।

ऐसे में जबकि अपनी-अपनी पार्टी के काडर को असली मुजाहिदीन बताने की जो दौड़ दोनों दलों में लगी है वह उन्हें कश्मीर में तो सहानुभूति की फसल काटने में सहायक होगी पर जम्मू संभाग में उनके इन बयानों की आलोचना जरूर हो रही है। यह बात अलग है कि जम्मू संभाग की दो लोकसभा सीटों पर दोनों ही दलों ने अपने उम्मीदवार मैदान में नहीं उतारे हैं, फिर भी नेकां का कांग्रेस के साथ गठबंधन है और राजनीतिक पंडितों के मुताबिक नेकां के नेताओं के यह बिगड़े बोले उसके उम्मीदवारों के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं।

याद रहे कल भी नेकां के एक अन्य नेता अकबर लोन ने पाकिस्तान जिन्दाबाद का नारा लगाते हुए कहा था कि कोई उनकी कुछ नहीं बिगाड़ सकता। अकबर लोन विधानसभा में भी पाकिस्तान जिन्दाबाद का नारा लगा चुके हैं और उनके विरुद्ध तब भी कोई कार्रवाई नहीं हुई थी।