नोवेल कोरोनावायरस के संबंध में प्रश्न?

आवाज़ ए हिंद टाइम्स सवांदाता, नई दिल्ली, 12, अप्रैल 2020, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने इस वायरस के खिलाफ असाधारण लड़ाई छेड़ दी है और संदिग्ध मामलों के लिये देश के हरेक कोने में लगातार निगरानी रखी जा रही है. मंत्रालय यात्रियों, स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े पेशेवरों और आम जनता के लाभ के लिये जागरूकता सामग्री और परामर्श का प्रसार-प्रचार कर रहा है.

sVbXjKSlzpxjG 1z0Rl7G4rRd1LYvIRkOcjsFIbLnn2hX1hlHcEUSmYzbBJY1MQywPfXY sMy0H aaicoA

प्रश्न- 2019 नया कोरोनावायस क्या है?

उत्तर- नया कोरोनावायरस अथवा 2019-nCov, एक नया वायरस है जिसकी पहली बार वुहान, हुबेई प्रांत, चीन में पहचान की गई है. इस का नाम ‘Novel’ रखा गया है क्योंकि इसकी पूर्व में कोई पहचान नहीं की गई है.

प्रश्न- 2019 कोरोनावायरस का स्रोत क्या है?

उत्तर- वर्तमान में 2019 नये कोरोनावायस के संक्रमण के वास्तविक स्रोत की पहचान नहीं की गई है. कोरोनावायरस वायरसों का एक बड़ा समूह है, कुछ लोगों को बीमार करते हैं और अन्य पशुओं में प्रसारित होते हैं. आरंभ में वुहान, चीन में प्रकाश में आये अनेक रोगियों का संपर्क व्यापक समुद्री भोजन और पशु मार्किट से देखा गया जिससे यह बात सामने आई कि संभवतः इसका स्रोत पशुओं से होकर आया है.

TqnMh0Wpwf0O4GerntfBJSokgiN0Fzamnx2GHtF

प्रश्न- यह वायरस किस प्रकार फैलता है?

उत्तर- चूंकि यह एक नया वायरस है, वायरस के प्रसार के संबंध में कोई विनिर्दिष्ट मार्ग अभी तक स्पष्ट नहीं हो पाया है. संभवतः इस वायरस की उत्पत्ति मूलतः किसी पशु में हुई परंतु ऐसा लगता है कि अब इसका प्रसार व्यक्ति से व्यक्ति में हो रहा है. अभी यह स्पष्ट नहीं कि कैसे आसानी से 2019-नया कोरोनावायरस एक व्यक्ति से दूसरे में प्रवेश करता है. ऐसा माना जाता है कि जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता है अथवा छींकता है यह दूसरे व्यक्ति में ठीक उसी प्रकार प्रवेश कर जाता है जिस प्रकार इन्फ्ल्यु एंजा और श्वास की अन्य बीमारियों में होता है.

प्रश्न- क्या 2019 कोरोनावायरस से बचाव के लिये कोई वैक्सीन है?

उत्तर- वर्तमान में 2019-नये कोरोनावायरस से बचाव के लिये कोई वैक्सीन उपलब्ध नहीं है.

प्रश्न- यदि मैं किसी ऐसे व्यक्ति के नजदीकी संपर्क में रहा हूं जो 2019-नये कोरोनावायरस से संक्रमित पुष्ट मामला है, तो मुझे क्या करना चाहिये?

उत्तर- ऐसे व्यक्ति के आखिरी संपर्क वाले दिन से अपने स्वास्थ्य की स्वयं निगरानी करें और इसे 28 दिनों तक जारी रखें. इससे जुड़े लक्षणों और प्रभावों के उभरने पर विशेष ध्यान दें: 

• बुखार 

• खांसी

• श्वास लेने में कमी अथवा कठिनाई होना यदि आपको उपर्युक्त में से कोई भी लक्षण दिखाई दे तो तुरंत आगे की सलाह और इलाज के लिये नजदीकी स्वास्थ्य सुविधा केंद्र पर जाएं. इसके अलावा आपको अपने स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ता को ऐसे रोगी के बारे में विवरण अवश्य देना चाहिये.

प्रश्न- इसका क्या इलाज है?

उत्तर- 2019-नये कोरोनावायरस संक्रमण के लिये कोई विनिर्दिष्ट एंटीवायरल इलाज उपलब्ध नहीं है. इस वायरस से संक्रमित व्यक्तियों को लक्षणों में कमी में मदद के लिये सहायक देखभाल प्राप्त होनी चाहिये.   

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: