दफ्तर के काम घर-परिवार के साथ 

मैनेजमेंट – प्रकृति पोद्धार, मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ द्वारा 

आवाज़ ए हिंद टाइम्स सवांदाता, नई दिल्ली, 12, अप्रैल 2020, ‘वर्कफ्रॉम होम विद फैमिली’ – यानी घर से दफ्तर का काम करना जहां अच्छा लगता है वहीं इस दौरान कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ता है। खासतौर से तब जब घर में बच्चे हों। काम और घर में समन्वय बैठा लिया तो जीत पक्की समझो…

कोरोना के खतरे के चलते अधिकतर कंपनियों ने कर्मचारियों को वर्क फ्रॉम होम की सुविधा दी है। ये जहां एक तरह की सुविधा है वहीं महिलाओं के लिए थोड़ी समस्या भी खड़ी करती है। बच्चों और परिवार के साथ घर से कार्य करना जरा मुश्किल-भरा होता है। थोड़ी योजना बनाकर इस परेशानी को दूर किया जा सकता है। आइए जानते हैं कैसे…

ये उपाय आज़माए-

दफ्तर के काम घर-परिवार के साथ 

सुबह काम जल्दी शुरू कर सकती है। सुबह उठने के बाद कॉफी या चाय पीने के साथ ही काम को शुरू कर दें, हालांकि यह आपके ऑफिस के समय से थोड़ा पहले का समय होगा लेकिन इससे आपको ही फायदा होगा। सुबह की ताजगी और शांति में काम जल्दी व बेहतर होगा।

सुपर वूमन न बनें-

दफ्तर के काम घर-परिवार के साथ, घर के अधिकतर कार्य महिलाओं को ही करने पड़ते हैं। ऐसे में एक बात का ख्याल रखें कि आप सुपरवमन नहीं बल्कि सामान्य इंसान है। सारे कार्य करने की कोशिश न करें तो ही बेहतर है। देर सारा काम करने के बाद, दफ्तर के काम को करने की ऊर्जा नहीं बचेगी, इससे आप तनाव व अवसाद में रहेंगी।

जो सुबह चूक गए तो-

दोपहर बाद, जब घर के अन्य सदस्य नींद लेने की योजना बना रहे हों और बच्चे टीवी देख रहे हैं तो इस समय का पूरा इस्तेमाल करें। इस दौरान दफ्तर के जरूरी काम पहले करें। जैसे-कॉनफ्रेस कॉल, मेल लिखना या प्रोजेक्ट संबंधित कार्य करना।

चिंता का वक़्त नहीं है-

कुछ बातों को लेकर चिंता करना बंद कर दें। जैसे बच्चे आजकल बहुत अधिक टीवी देखने लगे हैं। काम के कारण उन पर ध्यान नहीं दे पा रही है, ऐसा सोचकर दोषी महसूस न करें। ध्यान रखें कि ये समय आपके लिए परीक्षा का भी है और सभी के साथ वक्त बिताने का भी। इसलिए चिंता छोड़कर मन लगाकर काम करें।

चुनौतियों का सामना-

घर से काम करते हुए उत्पादकता (प्रोडक्टिविटी) में बाधा आए बिना काम का प्रबंधन करना सबसे बड़ी चुनौती है। बच्चे मानते है कि जब आप घर पर हैं, तो आप उनकी गतिविधियों में भी भाग लेंगी। लेकिन यह महत्वपूर्ण है कि बच्चे आपके काम के महत्व को समझें। आप उन्हें रंग भरने और बोर्ड गेम, ड्रॉइंग जैसे काम दे सकती है। जब आप काम करें, तो बच्चों से स्पर्धा रखते हुए टाइमलाइन के साथ कुछ लेखन का अभ्यास कराएं।

समन्वय कैसे बैठाएं-

बच्चों को संभालना मुश्किल होता है खासतौर पर तब जब आप काम करने बैठती हैं। अब जब सभी सदस्य घर पर है तो उन्हें बच्चों को संभालने की ड्यूटी दें। कोशिश करें कि समय को बांटकर कार्य करें। उदाहरण के तौर पर……

-परिवार के किसी अन्य सदस्य को बच्चों को नहलाने-धुलाने, तैयार कराने की ड्यूटि दी जा सकती है।

-यदि बच्चे थोड़े समझदार हो तो दोपहर का भोजन तैयार करने के लिए उनकी मदद ले सकती है। उनसे सब्जियां कटवा सकती है, इससे मदद मिलेगी और काम भी  जल्दी होगा।

– यदि भोजन की तैयारी सुबह नाश्ते के बाद ही कर लेंगी तो इससे दोपहर में सारा काम एक साथ करने का तनाव कम होगा।

-आप और पति दोनों ही वर्क फ्रॉम होम कर रहे है ऐसे में कार्यों को बांटने में हिचकिचाएं ना पति सुबह का नाश्ता बना सकते हैं। ऐसे में आपका वक्त बचेगा और इस समय का उपयोग आप ईमेल आदि को चेक करने में बिता सकती है।

Websites : https://awazehindtimes.page

http://www.newsaztak.com

Pls. visit at our Youtube channel : https://youtu.be/OiEZSEjSz7Y

 

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: