तेजी से बाल झड़ने के पीछे खराब शैंपू नहीं PCOS हो सकता है, इन 3 मसालों के सेवन से PCOS का खतरा होगा कम


पीसीओएस (PCOS) यानि पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (Polycystic Ovary Syndrome) जो शरीर में हार्मोन के असंतुलन से जुड़ा होता है। यह समस्या औरतों में पीरियड्स के साथ शुरू होती है। अगर आपको पीसीओएस है, तो हो सकता है कि आपको बार-बार पीरियड्स न हों। या आपको कई दिनों तक पीरियड्स होते रहें। इस बीमारी के दौरान आपके शरीर में एण्ड्रोजन (पुरुष हार्मोन) बहुत अधिक हो जाता है।

कैसे पता करें कि आपके पास पीसीओएस है?
पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (पीसीओएस) का विशेष रूप से निदान करने के लिए कोई एक टेस्ट नहीं है। इसका निदान करने के लिए डॉक्टर आपके लक्षणों, दवाओं और किसी भी अन्य चिकित्सा स्थितियों की हिस्ट्री के बारे में पूछ सकते हैं। इसके साथ ही आपके मासिक धर्म और वजन में किसी भी तरह का बदलाव भी पीसीओएस से संबंधित होता है।

आयुर्वेद विशेषज्ञ दीक्षा भावसार बताती हैं कि भारत में प्रजनन आयु की हर 5 में से एक महिला पीसीओएस से पीड़ित है। स्वस्थ जीवन शैली विकल्प जैसे- स्वस्थ भोजन, नियमित व्यायाम और सांस लेने, अच्छी नींद और प्रभावी तनाव प्रबंधन इसे स्थायी रूप से रोकने और प्रबंधित करने का एक आसान तरीका है। इसके साथ ही ये समस्या का उपचार आप किचन में रखें मसालों से भी कर सकते हैं।

PCOS को कंट्रोल करने का आसान और असरदार उपाय

​ये संकेत मिलते ही शुरू कर दें PCOS का उपचार

-pcos-
  • मूड स्विंग
  • मोटापा
  • अनियमित पीरियड्स
  • पिगमेंटेशन
  • बालों का झड़ना
  • बांझपन
  • अवसाद
  • शरीर पर अनचाहे बाल

​PCOS में सौंफ है फायदेमंद

pcos-

आयुर्वेद एक्सपर्ट बताती हैं कि यदि आप PCOS से ग्रसित हैं तो नियमित रूप से सौंफ का सेवन शुरू कर दें। दरअसल, सौंफ शरीर में एण्ड्रोजन (पुरुष हार्मोन) को कम करने में मदद करती है, जो बालों के झड़ने या शरीर पर अत्यधिक बालों के विकास को कम करने में मदद करती है।

कैसे करें इस्तेमाल

1 चम्मच सौंफ लें और उसे एक गिलास पानी में रात भर भिगों कर छोड़ दें। सुबह इसे 3-5 मिनट के लिए उबाल और छानकर पी लें।

​PCOS में खाएं काली मिर्च

pcos-

एक्सपर्ट पीसीओएस से पीड़ित महिलाओं को काली मिर्च का सेवन करने की सलाह देती हैं। दरअसल, काली मिर्च अतिरिक्त चर्बी को कम करने में मदद करती है और इंसुलिन संवेदनशीलता में सुधार करती है। जो पीसीओएस के कारण और लक्षण होते हैं। काली मिर्च में मौजूद एंटी इंफ्लेमेंटरी गुण हार्मोनल संतुलन के लिए भी मददगार साबित होते हैं।

कैसे करें इस्तेमाल

1 काली मिर्च (ताजी पिसी हुई) सुबह सबसे पहले 1 चम्मच ऑर्गेनिक शहद के साथ लें।

​PCOS के लिए लाभदायक है मेथी

pcos-

मेथी के बीज इंसुलिन के स्तर और ग्लूकोज सहिष्णुता को स्थिर करने में मदद करते हैं। साथ ही हार्मोन को भी नियंत्रित करते हैं जो बदले में अत्यधिक टेस्टोस्टेरोन के उत्पादन को बेअसर करने में मदद करते हैं।

कैसे करें इस्तेमाल

1 चम्मच मेथी के बीज लें और उन्हें रात भर भिगो दें, अगली सुबह 5 मिनट के लिए उबाल लें, छानकर पी लें।

​इस तरह से भी कर सकते हैं सेवन

94348167

आयुर्वेद एक्सपर्ट डॉक्टर दीक्षा बताती हैं कि इन तीनों मसालों का एक साथ सेवन भी कर सकते हैं। इसके लिए 1 गिलास पानी लें, उसमें 1 छोटी चम्मच सौंफ, 2 काली मिर्च, 1 छोटी चम्मच मेथी दाना, 1 छोटा टुकड़ा गुड़ डालें और इसे आधा होने तक उबालें। फिर इसे ठंडा करके पी लें।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।





Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: