Thursday, August 11, 2022
spot_img
HomeWorldजलवायु संकट जैसे अहम वैश्विक मुद्दों पर वार्ता में अड़ंगा नहीं लगाए...

जलवायु संकट जैसे अहम वैश्विक मुद्दों पर वार्ता में अड़ंगा नहीं लगाए चीन: एंटनी ब्लिंकन


हाइलाइट्स

नैंसी पेलोसी की यात्रा के बाद चीन ने ताइवान के आसपास सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया.
चीन ने सैन्य मामलों तथा जलवायु सहित अहम मुद्दों पर अमेरिका के साथ संपर्क तोड़ दिया है.
चीन ताइवान को अपना क्षेत्र बताता है और विदेशी सरकारों के साथ उसके संबंधों का विरोध करता है.

मनीला. अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने शनिवार को कहा कि चीन को जलवायु संकट जैसे महत्वपूर्ण वैश्विक मामलों पर वार्ता में अड़ंगा नहीं लगाना चाहिए. उनकी यह टिप्पणी ऐसे समय आई है जब अमेरिकी प्रतिनिधि सभा की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी की ताइवान यात्रा के चलते बीजिंग नाराज है तथा वॉशिंगटन के साथ उसके संबंधों में और तल्खी आ गई है. ब्लिंकन मनीला में फिलीपीन के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति फर्डिनेंड मार्कोस जूनियर और अन्य अधिकारियों के साथ मुलाकात करने के बाद अपने फिलीपीनी समकक्ष के साथ एक ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में बोल रहे थे.

गत 30 जून को मार्कोस जूनियर के पद संभालने के बाद ब्लिंकन फिलीपीन की यात्रा करने वाले शीर्ष रैंक के पहले अमेरिकी अधिकारी हैं. पेलोसी की यात्रा के बाद चीन ने बृहस्पतिवार को ताइवान के तटों के आसपास सैन्य अभ्यास शुरू कर दिया और शुक्रवार को सैन्य मामलों तथा जलवायु सहयोग सहित महत्वपूर्ण मुद्दों पर अमेरिका के साथ संपर्क काट दिया. ब्लिंकन ने कहा, ‘हमें अपने दोनों देशों के बीच मतभेदों के कारण वैश्विक चिंता के मामलों पर सहयोग में अड़ंगा नहीं लगाना चाहिए.’

उन्होंने कहा, ‘अन्य पक्ष हमसे यह उम्मीद कर रहे हैं कि हम उन मुद्दों पर काम करना जारी रखेंगे जो उनके लोगों के साथ-साथ हमारे अपने लोगों के जीवन और आजीविका के लिए महत्वपूर्ण हैं.’ ब्लिंकन ने जलवायु परिवर्तन पर सहयोग को एक प्रमुख क्षेत्र के रूप में उद्धृत किया जिस पर चीन ने संपर्क बंद कर दिया है. उन्होंने कहा कि चीन का कदम ‘अमेरिका के खिलाफ नहीं, बल्कि दुनिया के खिलाफ है.’ ब्लिंकन ने कहा, ‘दुनिया का सबसे बड़ा कार्बन उत्सर्जक अब जलवायु संकट का मुकाबला करने से इनकार कर रहा है.’ उन्होंने कहा कि ताइवान के आसपास पानी में चीन की बैलिस्टिक मिसाइलों का गिरना एक खतरनाक कार्रवाई थी.

ब्लिंकन के साथ अपनी संक्षिप्त बैठक में, मार्कोस जूनियर ने उल्लेख किया कि वह इस सप्ताह पेलोसी की ताइवान यात्रा के बाद हो रहे घटनाक्रम से हैरान हैं. मार्कोस जूनियर ने मनीला और वॉशिंगटन के बीच महत्वपूर्ण संबंधों की प्रशंसा की, जो आपस संधि सहयोगी हैं. ब्लिंकन ने फिलीपीन के साथ 1951 की पारस्परिक रक्षा संधि और ‘साझा चुनौतियों पर साथ काम करने’ की वॉशिंगटन की प्रतिबद्धता को दोहराया.

Tags: Antony Blinken, China, Taiwan, United States


hindi.news18.com

RELATED ARTICLES

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments