कोरोना-मंकीपॉक्स के बीच तेजी से बढ़ा 5 जानलेवा बीमारियों का प्रकोप, इन 10 कॉमन लक्षणों पर रखें नजर – during covid-19 and monkeypox outbreak malaria, dengue and tomato fever like diseases also spreading in india


कोरोना वायरस महामारी (Coronavirus pandemic) का प्रभाव थोड़ा कम जरूर हुआ है लेकिन इसका जोखिम अभी पूरी तरह टला नहीं है। पिछले एक महीने से देश में नए मामलों की संख्या बीस हजार के आसपास बनी हुई है और रोजाना बीस से तीस लोगों की मौत भी हो रही है। इस बीच देश में मंकीपॉक्स (Monkeypox) ने भी एंट्री कर ली है। केरल में पहला केस मिलने के बाद देश में चार माले हो गए हैं।

कोरोना और मंकीपॉक्स के बीच टोमैटो फीवर (Tomato Fever) भी एक्टिव हो गया है और बच्चों को प्रभावित कर रहा है। मानसून का मौसम होने की वजह से स्वाइन फ्लू (Swine Flu) मलेरिया (Malaria) और डेंगू (Dengue) का कहर भी देखने को मिल रहा है।

एक्सपर्ट्स और डॉक्टर मानते हैं कि बारिश के मौसम में इम्यून सिस्टम कमजोर हो जाता है जिस वजह से संक्रमण की चपेट में आना आसान हो जाता है। चलिए जानते हैं कि मौजूदा समय में देश में क्या-क्या घातक बीमारियों ने कहर बरपाया हुआ है और आप कैसे अपनी और दूसरों की हिफाजत कर सकते हैं।

कोविड-19 या कोरोना वायरस

-19-

कोविड-19 या कोरोना वायरस का खतरा तीन साल बाद भी कम नहीं हो रहा है। बेशक इसके लक्षण हल्के हो गए हैं लेकिन आज भी देश में रोजाना करीब बीस से तीस लोगों की मौत हो रही है और बीस हजार के करीब नए मामले सामने आ रहे हैं। अगर आपको बुखार, खांसी, थकावट, गले में खराश, सिरदर्द, दर्द, दस्त, त्वचा पर लाल चकत्ते, और लाल या खुजली वाली आंखें जैसे लक्षण महसूस हो रहे हैं, तो आपको जल्दी से जल्दी टेस्ट करवाना चाहिए।

मंकीपॉक्स

navbharat times

मंकीपॉक्स पूरी दुनिया में फैल रहा है और भारत में भी मंकीपॉक्स के चार मामले सामने आए हैं, जो स्वाभाविक रूप से चिंता का विषय है। बीमारी असामान्य है लेकिन काफी खतरनाक हो सकती है। इसके लक्षणों में बुखार, ठंड लगना, सर्दी, खांसी, सिरदर्द, शरीर में दर्द, लिम्फ नोड्स की सूजन, थकान, ठंड लगना और दाने जैसे दाने शामिल हैं। इसके बढ़ते खतरे को देखते हुए वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) ने मंकीपॉक्स को ग्लोबल हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया है।

टोमैटो फीवर

navbharat times

केरल में मंकीपॉक्स से पहले टोमैटो फीवर भी पाया गया था। बच्चों का एक समूह इस स्थिति से प्रभावित हुआ, जो बाद में अन्य राज्यों में फैल गया। इसे हाथ, पैर और मुंह की बीमारी के रूप में भी जाना जाता है। इससे आपको डिहाइड्रेशन, चकत्ते और त्वचा की अन्य समस्याएं हो सकती हैं। बुखार और थकान इसके अन्य लक्षण हैं। लाल चकत्ते के की कारन ही इसे टोमैटो फीवर कहा जाता है।

जापानी बुखार

navbharat times

जापानी इंसेफेलाइटिस एक ऐसा संक्रमण है जो इंसानों को संक्रमित मच्छर से हो सकता है। मस्तिष्क का संक्रमण मच्छरों द्वारा सूअरों से मनुष्यों तक पहुंच सकता है। यह बीमारी अक्सर गंभीर सिरदर्द, तेज बुखार, बेहोशी, कंपकंपी, आक्षेप और भ्रम के रूप में प्रकट होती है। भारत में असम में जापानी इंसेफेलाइटिस के मामलों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। हर साल मानसून के दौरान यह स्थिति मृत्यु दर का कारण बनती है और 2022 में अब तक 38 लोगों की जान ले चुकी है।

डेंगू

navbharat times

डेंगू एक गंभीर मच्छर जनित बीमारियों में से एक है, जो आमतौर पर बारिश के मौसम में देखी जाती है। यह एडीज इजिप्टी मच्छर के संक्रमित काटने से फैलता है। डेंगू बुखार एक घातक बीमारी है जो फ्लू से मिलती-जुलती है। तेज बुखार, सिरदर्द, दाने, मांसपेशियों में दर्द और जोड़ों में परेशानी इसके आम लक्षण हैं। पुणे, तेलंगाना और कर्नाटक में डेंगू के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं।

डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.