इंस्टाग्राम और फेसबुक की नजरें हैं आप पर, आप इसके बारे में क्या कर सकते हैं? – instagram and facebook are eyeing you, what can you do about it?


(डेविड टफली द्वारा, ग्रिफ़िथ विश्वविद्यालय) क्वींसलैंड, 15 अगस्त (द कन्वरसेशन) हाल के दिनों में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स की छवि पर कुछ बुरा असर पड़ा है, जो काफी हद तक उनके डेटा संग्रह की विशाल सीमा के कारण है। अब फेसबुक और इंस्टाग्राम की मूल कंपनी मेटा ने भी इस दिशा में कदम बढ़ा दिया है।मेटा के लिए इसके ऐप्स पर आपके द्वारा किए जाने वाले हर कदम पर नजर रखना ही पर्याप्त नहीं है, उसने अपने ऐप्स के माध्यम से एक्सेस की गई बाहरी वेबसाइटों में आपके द्वारा की जाने वाली हर चीज को जानने का एक तरीका तैयार किया है। वह इतनी दूर तक क्यों जा रहा है? और क्या इस निगरानी से बचने का कोई तरीका है?आपका पीछा करने के लिए वह कोड इंजेक्ट कर रहा हैमेटा में एक कस्टम इन-ऐप ब्राउज़र है जो फेसबुक, इंस्टाग्राम और किसी भी वेबसाइट पर काम करता है, जिस पर आप इन दोनों ऐप से क्लिक कर सकते हैं।अब पूर्व-गूगल इंजीनियर और गोपनीयता शोधकर्ता फेलिक्स क्रॉस ने पाया है कि इस ब्राउज़र में अतिरिक्त प्रोग्राम कोड डाला गया है। क्राउज़ ने एक उपकरण विकसित किया जिसने पाया कि इंस्टाग्राम और फेसबुक ने मेटा के इन-ऐप ब्राउज़रों के माध्यम से देखी गई वेबसाइटों पर कोड की 18 लाइनें जोड़ दी हैं।इस “कोड इंजेक्शन” के माध्यम से उपयोगकर्ता को ट्रैक किया जा सकता है और उन ट्रैकिंग प्रतिबंधों को एक तरफ किया जा सकता है जो क्रोम और सफारी जैसे ब्राउज़र में हैं। यह मेटा को “हर बटन और लिंक टैप, टेक्स्ट चयन, स्क्रीनशॉट, साथ ही पासवर्ड, पते और क्रेडिट कार्ड नंबर जैसे किसी भी फॉर्म इनपुट” सहित संवेदनशील उपयोगकर्ता जानकारी एकत्र करने में सक्षम बनाता है।क्रूस ने 10 अगस्त को अपने निष्कर्ष ऑनलाइन प्रकाशित किए, जिसमें वास्तविक कोड के नमूने भी शामिल थे।जवाब में, मेटा ने कहा है कि वह ऐसा कुछ भी नहीं कर रहा है जिसके लिए उपयोगकर्ताओं ने सहमति नहीं दी है। एक मेटा प्रवक्ता ने कहा: हमने जानबूझकर इस कोड को हमारे प्लेटफॉर्म पर लोगों के विकल्पों का सम्मान करने के लिए विकसित किया है […] कोड हमें लक्षित विज्ञापन या अन्य उद्देश्यों के लिए इसका उपयोग करने से पहले उपयोगकर्ता डेटा एकत्र करने की अनुमति देता है।मामले में उल्लिखित “कोड” पीसीएम.जेएस है – एक स्क्रिप्ट जो उपयोगकर्ता की ब्राउज़िंग गतिविधियों को एकत्रित करने का कार्य करती है। मेटा का कहना है कि स्क्रिप्ट इस आधार पर डाली गई है कि क्या उपयोगकर्ताओं ने सहमति दी है – और प्राप्त जानकारी का उपयोग केवल विज्ञापन उद्देश्यों के लिए किया जाता है।तो क्या यह नैतिक रूप से कार्य कर रहा है? खैर, कंपनी ने डेटा की एक विस्तृत श्रृंखला एकत्र करने के अपने इरादे के बारे में उपयोगकर्ताओं को सूचित करके सही काम किया है। हालाँकि, यह स्पष्ट करने से पीछे हट गया कि ऐसा करने के पूर्ण निहितार्थ क्या होंगे।लोग अधिक सामान्य अर्थों में ट्रैकिंग के लिए अपनी सहमति दे सकते हैं, लेकिन “सूचित” सहमति का तात्पर्य संभावित परिणामों के पूर्ण ज्ञान से है। और, इस मामले में, उपयोगकर्ताओं को स्पष्ट रूप से अवगत नहीं कराया गया था कि अन्य साइटों पर उनकी गतिविधियों का कोड इंजेक्शन के माध्यम से पीछा किया जा सकता है। मेटा ऐसा क्यों कर रही है?डेटा मेटा के बिजनेस मॉडल की केंद्रीय वस्तु है। मेटा इंस्टाग्राम और फेसबुक ऐप के माध्यम से खोली गई तृतीय-पक्ष वेबसाइटों में एक ट्रैकिंग कोड इंजेक्ट करके जितनी बड़ी मात्रा में डेटा एकत्र कर सकता है उसका एक खास महत्व है। साथ ही, मेटा का बिजनेस मॉडल खतरे में है – और हाल के दिनों की घटनाएं इस बात पर प्रकाश डालने में मदद कर सकती हैं कि कंपनी भला ऐसा क्यों कर रही है।यहां यह तथ्य महत्वपूर्ण है कि ऐप्पल (जो सफारी ब्राउज़र का मालिक है), गूगल (जो क्रोम का मालिक है) और फ़ायरफ़ॉक्स ब्राउज़र सभी सक्रिय रूप से डेटा एकत्र करने की मेटा की क्षमता पर प्रतिबंध लगा रहे हैं।पिछले साल, ऐप्पल का आईओएस 14.5 अपडेट एक विशेषता के साथ आया था कि ऐप्पल ऐप स्टोर पर होस्ट किए गए सभी ऐप्स को अन्य कंपनियों के स्वामित्व वाले ऐप्स पर अपना डेटा ट्रैक करने और एकत्र करने के लिए उपयोगकर्ताओं की स्पष्ट अनुमति मिलनी चाहिए।मेटा ने सार्वजनिक रूप से कहा है कि इस सिंगल आईफोन अलर्ट से उसके फेसबुक बिजनेस को हर साल 10 अरब अमेरिकी डॉलर का नुकसान हो रहा है।ऐपल का सफारी ब्राउज़र सभी तृतीय-पक्ष “कुकीज़” को ब्लॉक करने के लिए एक डिफ़ॉल्ट सेटिंग भी लागू करता है। ये ट्रैकिंग कोड के छोटे-छोटे हिस्से हैं जो वेबसाइटें आपके कंप्यूटर पर जमा करती हैं और जो वेबसाइट के मालिक को आपकी साइट पर जाने के बारे में बताती हैं।गूगल जल्द ही तृतीय-पक्ष कुकी को भी चरणबद्ध तरीके से समाप्त करने वाला है। और फ़ायरफ़ॉक्स ने तथाकथित क्रॉस-पेज ट्रैकिंग को रोकने के लिए हाल ही में “कुल कुकी सुरक्षा” की घोषणा की।दूसरे शब्दों में, मेटा को व्यापक उपयोगकर्ता डेटा ट्रैकिंग पर प्रतिबंध लगाने वाले ब्राउज़रों द्वारा रोका जा रहा है। इसकी प्रतिक्रिया अपने स्वयं के ब्राउज़र बनाने की थी जो इन प्रतिबंधों को दरकिनार कर देता है।मैं खुद को कैसे बचाऊं?अच्छी बात यह है कि गोपनीयता के बारे में चिंतित उपयोगकर्ताओं के पास कुछ विकल्प हैं।अपने इन-ऐप ब्राउज़र के माध्यम से मेटा को आपकी बाहरी गतिविधियों पर नज़र रखने से रोकने का सबसे आसान तरीका है कि इसका उपयोग न करें; सुनिश्चित करें कि आप अपनी पसंद के विश्वसनीय ब्राउज़र जैसे सफारी, क्रोम या फ़ायरफ़ॉक्स (नीचे दिखाए गए स्क्रीन के माध्यम से) में वेब पेज खोल रहे हैं।यदि आपको यह स्क्रीन विकल्प नहीं मिल रहा है, तो आप वेब पते को मैन्युअल रूप से कॉपी करके किसी विश्वसनीय ब्राउज़र में पेस्ट कर सकते हैं।एक अन्य विकल्प एक ब्राउज़र के माध्यम से सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म तक पहुंचना है। इसलिए इंस्टाग्राम या फेसबुक ऐप का उपयोग करने के बजाय, अपने विश्वसनीय ब्राउज़र के सर्च बार में उनका यूआरएल दर्ज करके साइटों पर जाएँ। इससे ट्रैकिंग की समस्या का भी समाधान होना चाहिए।मैं आपको फेसबुक या इंस्टाग्राम को पूरी तरह से छोड़ने के लिए नहीं कह रहा हूं। लेकिन हम सभी को इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि कैसे हमारे ऑनलाइन मूवमेंट और उपयोग के पैटर्न को सावधानीपूर्वक रिकॉर्ड किया जा सकता है और उन तरीकों से उपयोग किया जा सकता है जिनके बारे में हमें नहीं बताया गया है। याद रखें: इंटरनेट पर, यदि सेवा मुफ़्त है, तो शायद आप उत्पाद हैं। द कन्वरसेशन एकता


Source link
#इसटगरम #और #फसबक #क #नजर #ह #आप #पर #आप #इसक #बर #म #कय #कर #सकत #ह #instagram #facebook #eyeing

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: