आम आदमी पार्टी के विधायकों ने सीबीआई मुख्यालय के बाहर धरना दिया – aam aadmi party mlas protest outside cbi headquarters

नयी दिल्ली, 31 अगस्त (भाषा) आम आदमी पार्टी (आप) के एक प्रतिनिधिमंडल ने केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) के निदेशक सुबोध कुमार जायसवाल से मिलने की अनुमति नहीं दिये जाने के बाद यहां जांच एजेंसी के मुख्यालय के बाहर धरना दिया।

आप का प्रतिनिधिमंडल गैर-भाजपा सरकार को गिराने की कथित कोशिशें किये जाने की जांच की मांग को लेकर सीबीआई निदेशक से मिलने गया था, लेकिन उसे केंद्रीय एजेंसी के मुख्यालय में प्रवेश की अनुमति नहीं दी गई।

आप ने इससे पहले दिन में कहा था कि वह जायसवाल से मिलकर कई राज्यों में भाजपा द्वारा ‘ऑपरेशन लोटस’ के तहत गैर-भाजपा सरकारों को गिराने के कथित प्रयास की जांच की मांग करेगी।

आप विधायकों का 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल दोपहर तीन बजे सीबीआई मुख्यालय में इसके निदेशक से मिलने पहुंचा, हालांकि उनके कार्यालय ने मुलाकात के लिए किये गए उनके अनुरोध का कोई जवाब नहीं दिया।

आप के राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने सीबीआई मुख्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन में शामिल होने के बाद संवाददाताओं से कहा, ‘‘इससे यह साबित होता है कि सीबीआई भाजपा के इशारे पर काम करती है। मैंने सीबीआई निदेशक से मिलने का समय भी मांगा था, लेकिन मुझे अभी तक कोई जवाब नहीं मिला है।’’

सिंह ने आप विधायकों को जांच एजेंसी के निदेशक से मिलने देने और शिकायत देने की अनुमति देने से इनकार किये जाने को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि एक सामान्य पुलिस थाने में भी लोगों के पहुंचने पर उनकी शिकायत सुनी जाती है।

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा के ‘ऑपरेशन लोटस’ के खिलाफ शिकायत दर्ज कराने के इच्छुक दिल्ली के निर्वाचित विधायकों को एक घंटे तक सीबीआई मुख्यालय के बाहर खड़ा किया गया।

उन्होंने मांग की कि सीबीआई को भाजपा द्वारा सरकारों को गिराये जाने की जांच करनी चाहिए और ऑपरेशन लोटस के तहत विधायकों को खरीदने के लिए इस्तेमाल किए जा रहे धन के स्रोत का पता लगाना चाहिए।

प्रतिनिधिमंडल का हिस्सा रहीं विधायक आतिशी ने कहा कि पार्टी ने पहले जायसवाल के कार्यालय को एक ई-मेल भेजकर उनसे मिलने का समय मांगा था, लेकिन अभी तक कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली।

आतिशी ने संवाददाताओं से कहा,‘‘हम यहां आए हैं और मांग कर रहे हैं कि हमें सीबीआई निदेशक से मिलने के लिए समय दिया जाए, क्योंकि ‘ऑपरेशन लोटस’ एक बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्दा है। भाजपा ने ‘ऑपरेशन लोटस’ पर 6,300 करोड़ रुपये खर्च किए हैं। इसलिए इस मामले की सीबीआई से जांच कराई जानी चाहिए और इस धन के स्रोत का पता लगाया जाना चाहिए।’’

भाजपा ने आरोपों से इनकार करते हुए मांग की है कि आप के जिस विधायक ने यह दावा किया है कि भाजपा ने उनसे संपर्क करके पाला बदलने के लिए उन्हें 20 करोड़ रुपये तक की पेशकश की, उनकी ‘लाई डिटेक्टर’ जांच की जानी चाहिए।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कथित आबकारी घोटाले में सीबीआई की छापेमारी के बाद भाजपा पर आप विधायकों को अपने पाले में करने और केजरीवाल सरकार को गिराने की कोशिश करने का आरोप लगाया था।

इससे पहले दिन में, आतिशी ने कहा कि जब भी भाजपा किसी राज्य में विधानसभा चुनाव हारती है, तो उसका ‘ऑपरेशन लोटस’ राज्य सरकार को घेरने के लिए सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के इस्तेमाल के साथ शुरू हो जाता है।

उन्होंने आरोप लगाया कि इसके बाद, सत्ताधारी पार्टी के विधायकों को रकम की पेशकश की जाती है और वादा किया जाता है कि अगर वे भाजपा में शामिल होते हैं, तो उनके खिलाफ दर्ज मामले वापस ले लिए जाएंगे।



Source link

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: